जानिए कितने प्रकार ही होती है वाहनों की नंबर प्लेट‚ क्या होता है मतलब

सफेद नंबर प्लेट

सबसे पहले सफेद प्लेट के बारे में बात करते है। यह प्लेट आम गाड़ियों अथवा निजी वाहनों में देखने को मिलती है. आप सफेद रंग की नंबर प्लेट वाली गाड़ी का कमर्शियल यूज नहीं कर सकते. इस प्लेट के ऊपर काले रंग से नंबर लिखे होते हैं. वैसे ज्यादातर लोग सफेद रंग देखकर आसानी से अंदाजा लगा लेते हैं कि यह पर्सनल गाड़ी है.

पीली नंबर प्लेट

दूसरे नंबर पर पीली प्लेट आती है। दरअसल पीली रंग की नंबर प्लेट टैक्सी गाडियों में लगाई जाती हैं। इसके अलावा कमर्शियल यूज वाले ट्रकों अथवा अन्य वाहनों में भी पीली प्लेट का प्रयोग किया जाता हैं. इस प्लेट के अंदर भी नंबर काले रंग से लिखे होते हैं.

नीली प्लेट

तीसरे नंबर पर नीली प्लेट आती है। नीले रंग की नंबर प्लेट एक ऐसे वाहनों पर लगाई जाती जिसका इस्तेमाल विदेशी प्रतिनिधियों द्वारा किया जाता है. नीले रंग की इस प्लेट पर सफेद रंग से नंबर लिखे होते हैं. ऐसी गाड़ियां आपको दिल्ली या बड़े शहरों में आसानी से देखने के लिए मिल जाती हैं। . नीली प्लेट यह बताती है कि यह गाड़ी विदेशी दूतावास की है।

काली प्लेट

चौथे नंबर पर काली प्लेट आती है। आमतौर पर काले रंग की प्लेट वाली गाड़ियां भी कमर्शियल वाहनों में प्रयोग की जाती हैं। लेकिन ये किसी खास व्यक्ति के लिए होती है. ऐसी गाड़ियां किसी बड़े होटल में खड़ी मिल जाएंगी. ऐसी कारों में काले रंग की नंबर प्लेट पर पीले रंग से नंबर लिखा होता है.

लाल प्लेट

पांचवे नंबर पर लाल प्लेट आती हैं। अगर किसी गाड़ी में लाल रंग की नंबर प्लेट है तो वह गाड़ी भारत के राष्ट्रपति या फिर किसी राज्य के राज्यपाल की होती है. ये लोग बिना लाइसेंस की ऑफिशियल गाड़ियों का उपयोग करते हैं. इस प्लेट में गोल्डन रंग से नंबर लिखे होते हैं और इन गाड़ियों में लाल रंग की नंबर प्लेट पर अशोक की लाट का चिन्ह बना हुआ होता है.

तीर वाली प्लेट

छठे नंबर पर तीर वाली नंबर प्लेट आती हैं। सैन्य वाहनों में ऐसी ही नंबर प्लेट का इस्तेमाल किया जात हैं. ऐसे वाहनों के नंबर को रक्षा मंत्रालय द्वारा आवंटित किया जाता है. ऐसी गाड़ियों की नंबर प्लेट में नंबर के पहले या तीसरे अंक के स्थान पर ऊपरी ओर इशारा करते तीर का निशान होता है, जिसे ब्रॉड एरो कहा जाता है. तीर के बाद के पहले दो अंक उस साल को दिखाते हैं, जिसमें सेना ने उस वाहन को खरीदा था, यह नम्बर 11 अंकों का होता है

हरी प्लेट

सातवे और आखिरी नंबर पर हरे रंग की नंबर प्लेट आती है। हरे रंग की नंबर प्लेट सड़क मंत्रालय ने इलेक्ट्रिक परिवहन वाहनों के लिए निर्धारित की है. यानि जो वाहन इलेक्ट्रिक होते हैं उनमें हरे रंग की नंबर प्लेट लगी होती है। इस नंबर प्लेट का बैकग्राउंड हरा होता है और इस पर वाहन की श्रेणी के हिसाब से पीले अथवा सफेद रंग से नंबर लिखे होते हैं.

आशा करते हैं कि वीडियो में दी गई जानकारी आपको अच्छे से समझ आ गई होगी।