कैरान में महर्षि कश्यप के बोर्ड पर पेट्रोल छिड़ककर लगा दी आग‚ माहौल खराब करने की साजिश

महर्षि कश्यप के बोर्ड पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी

कैराना। गांव बुच्चाखेड़ी में माहौल खराब करने की साजिश रची जा रही है। असामाजिक तत्वों ने गांव के चौराहे पर लगे महर्षि कश्यप के बोर्ड में पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। एक सप्ताह के अंतराल में महर्षि कश्यप के बोर्ड को खंडित किये जाने की लगातार दूसरी घटना से आक्रोशित कश्यप समाज के लोगो ने अनिश्चिकालीन धरना शुरू कर दिया है।

मंगलवार देर रात्रि क्षेत्र के गांव बुच्चाखेड़ी में कश्यप चौराहे पर स्थापित महर्षि कश्यप के बोर्ड में असामाजिक तत्वों ने पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी, जिससे बोर्ड पर लगी महर्षि कश्यप की तस्वीर आग से झुलस गई। बुधवार प्रातः घटना की जानकारी गांव के कश्यप समाज के लोगो को हुई तो उनमें आक्रोश फैल गया। इसके बाद कश्यप समाज के आक्रोशित लोग मौके पर पहुंचे और हंगामा-प्रदर्शन करते हुए धरने पर बैठ गए। धरने पर बैठे लोगों द्वारा जमकर नारेबाजी भी की गई। मामले की सूचना पर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक पंकज कुमार त्यागी पुलिस बल के साथ गांव में पहुंचे और धरने पर बैठे लोगों को समझाने का प्रयास किया। बताया गया है कि धरनारत लोगो ने आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही किये जाने एवं प्रशासन द्वारा महर्षि कश्यप का नया बोर्ड लगवाने की मांग की। उन्होंने मांगे पूरी होने तक धरना जारी रखने की बात कही। प्रधानपति आजाद, दीपक एडवोकेट, ताराचंद, विजयपाल, ओमपाल, सतेंद्र, विकास, जितेंद्र, मोनू, रवि, अंकित, सुनील, सुशील आदि लोग धरने पर मौजूद रहे। उधर, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक पंकज त्यागी का कहना है कि मामले की तहरीर प्राप्त नही हुई है। तहरीर प्राप्त होने पर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी। वही, शाम के समय एसडीएम शिवप्रकाश यादव व सीओ अमरदीप मौर्य गांव में पहुंचे और धरना दे रहे लोगो से वार्ता की। समाचार लिखे जाने तक अफसर धरना दे रहे लोगो से वार्ता कर रहे थे।

आखिर क्या है माहौल खराब करने के पीछे की मंशा

गांव बुच्चाखेड़ी में एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार महर्षि कश्यप के बोर्ड को खंडित किया गया है। इससे पूर्व विगत 6 अक्टूबर को बोर्ड पर लगे महर्षि कश्यप के पोस्टर को फाड़कर फेंक दिया गया था। प्रधानपति आजाद कश्यप ने गांव के ही तीन नामजद समेत दस लोगो के खिलाफ मामले की तहरीर पुलिस को दी थी। हालांकि बाद में गांव के जिम्मेदार लोगों की मौजूदगी में दोनों पक्षों के मध्य फैसला हो गया था, जिसमें आरोपी पक्ष ने नया बोर्ड लगवाने हेतु छह हजार रुपये दिए थे। इसके बाद बोर्ड पर फिर से महर्षि कश्यप की रेडियमयुक्त तस्वीर लगवाई गई। मंगलवार रात्रि असामाजिक तत्वों ने बोर्ड पर लगी महर्षि कश्यप की तस्वीर पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। महर्षि कश्यप के बोर्ड को खंडित करने के पीछे किसी बड़ी साजिश की बू आ रही है।

गांव में बवाल न करा दे पुलिस की लापरवाही

गांव बुच्चाखेड़ी कैराना क्षेत्र के संवेदनशील गांवों में से एक है। इससे पूर्व वर्ष 2013 में होली पर यह गांव साम्प्रदायिक दंगे की आग में झुलस चुका है। उस वक्त दंगाइयों ने गांव के एक धार्मिक स्थल में घुसकर उपद्रव मचाते हुए जमकर तोड़फोड़ की गई थी। इसके अलावा, वर्ष 2021 में हुए ग्राम पंचायत चुनाव के बाद से गांव में दो बिरादरियों के बीच तनाव चला आ रहा है। इसी वर्ष सम्पन्न हुए विधानसभा चुनावों के बाद चुनावी रंजिश को लेकर फरवरी माह में दोनों बिरादरी के लोगो के बीच संघर्ष हो चुका है, जिसमें कश्यप समाज के लोगो ने आरोपी पक्ष पर कार्यवाही न होने के कारण गांव से पलायन करने की चेतावनी दी थी। दोनों पक्षों के बीच नफरत की आग अंदर ही अंदर सुलग रही है, जिससे गांव में बड़े बवाल की आशंका प्रबल हो गई है। हालांकि पुलिस मामले को हलके में लेकर चल रही है।

सलीम फारूकी‚ संवाददाता