शामली: जुलूस के दौरान तलवार से घायल हुआ व्यापारी, हंगामा के बाद पुलिस ने बंद कराया जुलूस

संवाददाता: सलीम फारूकी

शामली: कैराना में निकाले जा रहे काल जुलूस के दौरान कस्बे में जमकर हंगामा हुआ। जुलूस में काल का किरदार निभा रहे व्यक्ति की तलवार से एक व्यापारी घायल हो गया। इसके बाद घायल व्यापारी के परिजनों ने जमकर हंगामा किया। मामला बढ़ता देख पुलिस ने जुलूस को बीच में ही बंद कराकर हंगामा कर रहे लोगो को शांत किया। मामले के सम्बंध में पुलिस को अलग-अलग तहरीर दी गई है।

आपको बता दें कि कैराना कस्बे की रामलीला कमेटी द्वारा प्रतिवर्ष काल जुलूस का आयोजन किया जाता है। मंगलवार को भी कमेटी की ओर से निकाले जुलूस में काल का किरदार निभा रहे व्यक्ति की लकड़ी की तलवार से बेगमपुरा निवासी प्रवीण नामक व्यापारी  घायल हो गया। व्यापारी के घायल होने की सूचना पर परिजनों में आक्रोश फैल गया। इसके बाद व्यापारी के परिजनों ने कटहरा धर्मशाला के सामने हंगामा शुरू कर दिया।

परिजन काल द्वारा व्यापारी को रंजिशन तलवार मारकर घायल करने का आरोप लगा रहे थे। उन्होंने कमेटी के लोगो के प्रति भी कड़ा एतराज करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। जुलूस में हंगामे की सूचना पर एसएसआई राधेश्याम पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति को संभाला। उन्होंने हंगामा कर रहे लोगो को बमुश्किल समझा-बुझाकर शांत किया। तत्पश्चात काल का किरदार निभा रहे व्यक्ति को पुलिस ने कड़ी सुरक्षा में कोतवाली पहुंचाया।

घायल व्यापारी प्रवीण गर्ग पुत्र साहिल ने काल का किरदार निभाने वाले व्यक्ति एवं श्री रामलीला कमेटी के लोगो के विरुद्ध तहरीर दी है। इसके अलावा कमेटी के सदस्यों एवं काल का किरदार निभा रहे कलाकार की तरफ से भी व्यापारी के खिलाफ शिकायती-पत्र दिया है। मामले में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अनिल कपरवान का कहना है कि हंगामे के बाद काल जुलूस को बंद करा दिया गया हैं। दोनों पक्षों की ओर से तहरीर आई है। मामले की जांच की जा रही है। बाद में पुलिस ने काल बने व्यक्ति को मेडिकल के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया।

क्या होता है काल जुलूस

कैराना कस्बे में श्रीरामलीला कमेटी द्वारा हर वर्ष काल जुलूस निकाला जाता है। जुलूस में काल का अभिनय करने वाला व्यक्ति अपने शरीर को पूरी तरह काले रंग अथवा तेल से रंग लेता है। इसके बाद वह लोगो को लकड़ी की तलवार लेकर लोगो के पीछे दौड़ता है। जुलूस में हिन्दू-मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग काल बने व्यक्ति के पीछे भागते है और जुलूस का आनन्द उठाते है।