Connect with us

Hi, what are you looking for?

दुनिया

भारत की तरह श्रीलंका में महंगाई ने लगाई आग‚ 1,200 रुपये प्रति लीटर हुआ दूध तो, 2‚700 का हुआ गैस सिलेंडर

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार श्रीलंगा में घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतों में पहले से करीब 90 फीसदी का इजाफा हुआ है। वहीं एक लीटर दूध पाउडर की कीमत 250 रुपये थी, जो अब 1,195 रुपये हो गई है। इस बढ़ोतरी से सोशल मीडिया पर लोगों का भारी असंतोष और प्रतिक्रिया मिल रही हैं।

खबर शेयर करें
फोटो साभार श्रीलंका

कोलंबो: सरकार की अनदेखी के चलते भारत में इस समय मंहगाई चर्म सीमा पर है। खाद्य तेल से लेकर‚ पेट्रोल‚ डीजल और रसोई गैस लोगों की पहुंच से दूर होती जा रही है। इनका असर अन्य जरूरत की चीजों पर भी पड़ रहा है। अब ऐसा ही हाल पडोसी मुल्क श्रीलंका का भी हो रहा है। यहां पर भारत से ज्यादा हालात खराब हो चुके हैं जिसके चलते सरकार को आवश्यक वस्तुओं पर से शुल्क हटाना पड़ा है। [inflation in sri lanka hindi news]

यह भी पढ़ें- India- China War: चीन ने भारत को फिर दी धमकी‚ युद्ध हुआ तो करना पड़ेगा हार का सामना !

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार श्रीलंगा में घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतों में पहले से करीब 90 फीसदी का इजाफा हुआ है। वहीं एक लीटर दूध पाउडर की कीमत 250 रुपये थी, जो अब 1,195 रुपये हो गई है। इस बढ़ोतरी से सोशल मीडिया पर लोगों का भारी असंतोष और प्रतिक्रिया मिल रही हैं।

मंहगाई रिकार्ड स्तर पर बढ़ने से गुरुवार को राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में इन चीजों पर से सेवा कर हटाने का निर्णय लिया गया है। हालांकि सरकार के इस फैसले से कोई खास राहत लोगों को नही मिली है। पिछले शुक्रवार को घरेलू सिलेंडर की कीमत 1,400 रुपये थी। अब इसकी कीमत 2,657 रुपये हो गई है। इसी तरह आटा, चीनी और अन्य आवश्यक वस्तुओं के दाम आसमान छू रहे हैं। सीमेंट के दाम भी बढ़े हैं।

यह भी पढ़ें- मंहगाईǃ रिकार्ड तोड़ महंगाई ने किया जीना मुहाल‚ सब्जियों के बाद आटा‚ दाल-चावल और तेल की कीमतों ने छुआ आसमान

लोगों में सबसे ज्यादा असंतोष गैस सिलेंडरों की कीमतों में हुई बेतहाशा वृद्धि को लेकर है। मांग की जा रही है कि सरकार दरों को तत्काल नियंत्रण में लाए। ‘आपूर्ति को और अधिक कुशल बनाने के लिए, कैबिनेट ने मिल्क पाउडर, आटा, चीनी और सिलेंडर गैस पर टैक्स हटाने का फैसला किया। इस फैसले से कीमतों में करीब 37 फीसदी की कमी की उम्मीद थी। लेकिन मुनाफाखोरों ने इस लाभ को खुद उठाना शुरू कर दिया है।

इस बीच, सरकार ने कोरोना प्रतिबंध के लिए लगाए गए छह सप्ताह के लॉकडाउन को हटा लिया है। लेकिन सार्वजनिक कार्यक्रमों पर अभी भी रोक है। ट्रेनें भी शुरू नहीं हुई हैं। सरकार 21 अक्टूबर से 18 से 19 वर्ष के आयु वर्ग के छात्रों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू कर रही है। फाइजर का टीकाकरण किया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि पहली खुराक 20 वर्ष से अधिक उम्र के सभी नागरिकों को दी गई है और 82 प्रतिशत नागरिकों ने दूसरी खुराक ली है।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: