रोगियों का इलाज अब जीरो वोल्ट थेरेपी से हुआ संभव “हिम्स” मेरठ में लॉन्च हुई नई तकनीक

मंच पर मौजूद पदाधिकारी

मेरठ -रविवार को जनपद मेरठ के नगला में स्थित चड्ढा पब्लिक स्कूल में एशिया के सबसे बड़े 1000 बेड के आयुर्वेद, नेचुरोपैथी और इंटीग्रेटेड साइंस के इंस्टीट्यूट, हिम्स मेरठ में योग और मेडिटेशन गुरु आचार्य मनीष और डॉक्टर बिस्वरूप रॉय चौधरी ने जीरो वोल्ट धेरैपो लॉन्च की। जीरो बोल्ट थैरेपी एक ऐसी तकनीक है जो की अर्थिंग के द्वारा शरीर की नकारात्मक ऊर्जा को निकाल कर, उसको सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करती है, जिससे शरीर की सेल्फ हॉलिंग क्षमता बढ़ती है। यह तकनीक किडनी फेल, लीवर फेल, डायबिटीज, बीपी, डिप्रेशन और बाकी गंभीर बीमारियों का इलाज करने के लिए बहुत लाभकारी है।

इस थैरेपी के द्वारा हिम्स की टीम असाध्य बीमारियों से जूझ रहे रोगियों को जल्द ही रिकवर कर उन्हें रोग मुक्त बनाने की ओर काम कर रही है। इस तकनीक के साथ साथ डॉक्टर बीआरसी ने अपनी किताब “क्योर @ नीरो वोल्ट का लॉन्च भी हिम्स मेरठ में किया।। हिन्स में किडनी फेल, लीवर फेल, कैंसर, पैलेसीमिया और ऑटो इम्यून जैसी कई असाध्य बीमारियों का प्राकृतिक चिकित्सा,आयुर्वेद नेचुरोपैथी और पंचकर्म के माध्यम से जीवन शैली में बदलाव करके सफलतापूर्वक इलाज किया जाता है।

किडनी फेल के इलाज के लिए हिम्स को पूरे देश में प्रसिद्धि प्राप्त है। डॉक्टर बीआरसी ने कहा, “जोरो बोल्ट थैरेपी के द्वारा बहुत सी गंभीर बीमारियों का इलाज संभव है। हमारे शरीर के अंदर एलेक्ट्रो मैग्नेटिक वेस होती है और इन बैक्स की वोल्टेज अमर कर दी जाए तो काफी सारी बीमारियाँ ठीक हो सकती है। हम जीरो कोल्ट थेरेपी के द्वारा एक रोगी को पृथ्वी और प्रकृति से जोड़ते है जिसमे उनके शरीर की नाकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है व पृथ्वी उनको सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करती है। इसी सकारात्मक ऊर्जा और पृथ्वी की बोल्टेज के द्वारा रोगियों का इलाज सफलतापूर्वक हो पाता है।

अगर आप इस थेरेपी के बारे में और जानना चाहते है तो आप मेरी किताब क्योर @ जीरो वोल्ट” पढ़ सकते है। आचार्य जी ने कहा, “कई किडनी फेल के रोगियों का बेहतर स्वास्थ्य इस बात का जीता जागता सबूत है की जीरो बोल्ट धेरैपी काम करती है। हमारा उद्देश्य इस तरह के उपचार को देश भर में सभी के लिए सुलभ बनाना है और हम इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं।”

हिम्स शुद्धि आयुर्वेद के सेंटर भारत के कई अन्य शहरों में भी स्थापित किए गए हैं, जैसे कि चंडीगढ़, लखनऊ, नवी मुंबई, थाने,संगरूर, भागलपुर, गुरुग्राम, सुधियाना, अमृतसर, दिल्ली और गोवा। देश भर के इन केंद्रों में 200 से अधिक विशेषज्ञ डॉक्टरअपनी सेवाएं दे रहे हैं।

आचार्य ने आगे कहा कि, “हिम्स मैस्ट 25 एकड़ में फैला हुआ है और इसमें 1000 बेड की सुविधा उपलब्ध है। हिम्स मेरठ सिर्फ एक अस्पताल नहीं है। यह एक ऐसी जगह है जहाँ आप अपने पूरे परिवार के साथ आ सकते हैं और खुद को पृथ्वी और प्रकृति के साथ जोड़ कर खुद को पूरी तरह स्वस्थ बना सकते है। यहां आप थोड़े दिनों के समय में ही पंचकर्म, नेचुरोपैधी, संतुलित आहार, योग, व्यायाम, जीरो नोल्ट थेरेपी और पोरचुरल थैरेपी के माध्यम से अपनी जीवनशैली को बदल सकते हैं और खुद को तंदुरुस्त बना सकते है। आज के तनाव भरे जीवन में अगर आप अपने शरीर और मन को डिटॉक्स करना चाहते है तो आप हिम्स, मेरठ जरूर आना चाहिए।”