सांकेतिक चित्र

उत्तर प्रदेश: बारांबकी में एक महिला ने शुक्रवार की सुबह मायके आकर अपनी दो साल की बेटी को घर के पीछे बने तालाब में फेंकने के बाद कमरे में आकर अपने दुपट्टे से फांसी लगाकर जान दे दी। मां बेटी की मौत से हड़कंप मच गया। परिजनों के मुताबिक मृतका मानसिक रुप से अस्वस्थ्य थी।

जानकारी के अनुसार, सतरिख थाना क्षेत्र के भनौली गांव में विनय की पत्नी सीमा का मायका जैदपुर थाना के रामपुर गांव में है। गुरुवार को महिला अपनी दो साल की बेटी विधि के साथ मायके आयी हुई थी। जबकि सीमा की बड़ी बेटी पांच साल की अनुष्का पिता के पास ही थी। शुक्रवार की सुबह नौ बजे सीमा की उसकी छोटी बहन मधू ने बड़ी बहन को कमरे में फांसी पर लटका देखा तो मधू की चीख निकल गई। उसकी चीख पुकार सुनकर आस-पास के लोग इकट्ठा हो गए।

महिला की मौत के बाद परिजन और ग्रामीण उसकी दो वर्ष की बेटी विधि की ढूंढने लगे। खोजबीन में मासूम का शव घर के पीछे तालाब के पानी में उतराता मिला। मां बेटी की मौत से घर में कोहराम मच गया। सूचना मिलने पर पुलिस ने दोनों लाशों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया। मृतका की मां सुशीला देवी ने बताया कि सीमा मानसिक मंदित थी। वह काफू समय से बीमारी के कारण परेशान रहती थी।

परिजनों ने बताया कि सुबह सीमा ने कहा कि आप सभी खेत चलों मैं थोड़ी देर में आती हूं। इस दौरान सीमा और उसकी बच्ची घर में अकेले थे। लेकिन जब काफी देर बाद भी सीमा खेत पर नहीं आयी तो उसकी छोटी बहन किसी काम से घर आयी। तब उसको सीमा की लाश कमरे में लटकी हुई मिली।

Manoj Kumar