उत्तर प्रदेश: लखीमपुर खीरी के तिकुनिया हिंसा मामले में किसानों की हत्या के केस में मुख्य गवाह प्रभजोत सिंह के छोटे भाई सर्वजीत सिंह पर शनिवार रात को तलवार से हमला करने का मामला सामने आया है। हमले का आरोप आशीष मिश्र के करीबी पर लगाया गया है। हमले में सर्वजीत गंभीर रूप से घायल हो गया। आरोप है कि तहरीर देने के बावजूद भी न तो थाना प्रभारी राजू राव ने तहरीर ली और न ही घायल का मेडिकल करवाया। 

जानकारी के अनुसार, कोतवाली क्षेत्र के कल्होरी गांव निवासी प्रभुजीत सिंह पुत्र अंग्रेज सिंह तिकुनिया हिंसा में मुख्य गवाह है। उसके भाई सर्वजीत सिंह ने शनिवार को पुलिस को तहरीर देकर बताया कि 9 दिसम्बर की रात 10 बजे के करीब अपने मित्र के यहां मुंडन संस्कार की पार्टी में शामिल होने शिवा पैलेस गया था। बताया गया की वहां पर तिकुनिया हिंसा कांड का मुख्य आरोपी आशीष मिश्र मोनू का खास आदमी विकास चावला पहले से ही मौजूद था।

आरोप है कि विकास ने जैसे ही उसे पार्टी में देखा तभी उसने अपने अन्य साथियों के साथ गाली गलौच करते हुए सर्वजीत पर तलवार से हमला कर दिया। उसने बताया कि शनिवार को थाने में तहरीर दी लेकिन प्रभारी थाना राजू राव ने न तो तहरीर ली और न ही मुकदमा दर्ज कराया। यहां तक कि मेडिकल भी नहीं करवाया। मजबूरन गंभीर हालत में उन्हें घायल भाई को लखीमपुर के निजी ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया। उधर, कोतवाली प्रभारी राजू राव का कहना है कि उन्हें तहरीर ही नहीं मिली है।

Manoj Kumar