Connect with us

Hi, what are you looking for?

सच्ची कहानियां

जानिए पहले जमाने मे क्यों करते थे राजा-महाराजा कई-कई शादियां ?

21 वीं सदी में, जहाँ एक विवाह करके भी जीवन यापन करना मुश्किल है, अतीत में, राजा महाराजा एक या दो नहीं बल्कि चार-पांच शादियाँ आराम से कर लेते थे। अगर हम आज के समय में कई शादियां करने की बात करते हैं, तो यह सुनकर अच्छा लगेगा, लेकिन आज उन शादियों को करना शायद गंगा में जौ बोने जैसा होगा। अगर यही बात किसी शादीशुदा आदमी से कही जाए, तो वह कहेगा, भैया, यहां एक शादी करके गुजारा नही हो रहा और तुम तीन शादियां करने की बात कर रहे हो।

प्राचीन काल में, राजा महाराजा ऐसा करते थे। कभी-कभी हमें पढ़ने को मिलता है कि एक राजा हफ्तों के दिनों के अनुसार रानियाँ रखता था। राजा सप्ताह के प्रत्येक दिन अलग-अलग रानियों के साथ सोता था।  आखिर क्या कारण था कि राजा महाराजा एक से अधिक विवाह करते थे, क्या उन्हें आज की तरह अपनी पत्नियों से डर नहीं लगता था। आइये जानते हैं इसके कई कारण

1:- इनमें सबसे बड़ा कारण यह है कि चूंकि राजा महाराजा हमेशा किसी राज्य या कबीले के मुखिया होते थे, इसलिए उनके लिए आर्थिक रूप से कई विवाह करना कोई बड़ी बात नहीं थी। वे अपने लिए एक से अधिक विवाह करने में शारीरिक और आर्थिक रूप से सक्षम थे।

2:- दूसरा कारण यह था कि राजा महाराजा राज्य में सबसे बड़े पद पर थे, वे राज्य में अपनी पसंद की किसी भी लड़की को शादी का प्रस्ताव भेज देते थे। क्योंकि वे राजा थे, उन्हें इस बात का कोई डर नहीं था कि कोई क्या कहेगा। जिस भी लड़की पर भी उनका  दिल आ गया वह उस लड़की को शादी करने के लिए मजबूर कर देते थे। लड़की पसंद करती है या नहीं उस समय यह कोई मायने नही रखता था, उस लड़की को राजा या महाराज से शादी करनी पड़ती थी।  लोग खुद को खुशनसीब मानते थे कि राजा को उनकी लड़की पसंद आयी है, जिसके बदले में लड़की के परिजनों को किसी राजवाड़े में ठीक स्थान मिल जाता था।  ताकि वह अच्छी तरह से रह सके। यही कारण था कि एक से अधिक विवाह आसानी से हो जाते थे।

3:- तीसरा सबसे बड़ा कारण यह था कि उस समय महिलाओं को अपने अधिकारों के बारे में जानकारी नहीं थी। उस समय महिलाएँ अपने अधिकारों से वंचित थीं। क्योंकि राजा ही राज्य का संविधान और कानून था, इसलिए महिलाओं को ऐसे अधिकार नहीं दिए जाते थे, जिससे वे विवाह के ऐसे प्रस्तावों के खिलाफ जा सकें। उस समय का समाज ऐसा था कि लोगों की सोच बहुत संकीर्ण थी। वे राजा को अपना सब कुछ मानते थे। उसे भगवान का दर्जा दिया जाता था

4:- उस जमाने में, राजा महाराजाओ की दूसरे राजाओं से प्रतिस्पर्धा हुआ करती थी, जो कितनी शादी करते हैं और उनकी कितनी सुंदर रानियां हैं। यही कारण था कि राजा धौंस जमाने के लिए भी कई शादियां करते थे।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement