Connect with us

Hi, what are you looking for?

सच्ची कहानियां

जानिए कौन बना था देश का पहला IAS अफसर

बिहार के कटिहार जिले के रहने वाले शुभम कुमार सिविल सर्विसेज मेन एग्जाम 2020 में टॉप किया और IAS बनने तक का सफर तय किया. लेकिन, क्या कभी आपने सोचा है कि भारत का पहला आईएएस अधिकारी (1st IAS Officer of India) कौन था?

खबर शेयर करें

नई दिल्ली: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने शुक्रवार (24 सितंबर) को सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2020 के लिए अंतिम परिणाम (UPSC Civil Services result 2020) घोषित कर दिया और इस परीक्षा में कुल 761 उम्मीदवारों ने क्वालीफाई किया.

बिहार के कटिहार जिले के रहने वाले शुभम कुमार सिविल सर्विसेज मेन एग्जाम 2020 में टॉप किया और IAS बनने तक का सफर तय किया. लेकिन, क्या कभी आपने सोचा है कि भारत का पहला आईएएस अधिकारी (1st IAS Officer of India) कौन था?

1854 में हुई थी सिविल सर्विस एग्जाम की शुरुआत

upsc.gov.in के अनुसार, अंग्रेजों ने भारत में सिविल सर्विस एग्जाम (Civil Service Exam) की शुरुआत साल 1854 में की थी, जिसे संसद की सेलेक्ट कमेटी की लॉर्ड मैकाले की रिपोर्ट के बाद शुरू किया गया. इससे पहले सिविल सेवकों का नामांकन ईस्ट इंडिया कंपनी के निर्देशकों द्वारा किया जाता था, जिन्हें लंदन के हेलीबरी कॉलेज में ट्रेनिंग के बाद भारत भेजा जाता था. 1854 में सिविल सेवा आयोग की स्थापना के बाद 1855 में लंदन में प्रतियोगी परीक्षा शुरू की गई. इसके लिए न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकतम उम्र 23 साल थी, लेकिन भारतीयों के लिए ये परीक्षाएं काफी कठिन थी.

कौन थे भारत के पहले IAS अफसर?

रवींद्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore) के बड़े भाई सत्येंद्रनाथ टैगोर (Satyendranath Tagore) पहले भारतीय थे, जिन्होंने 1864 में सिविस सेवा परीक्षा में सफलता हासिल की. सत्येंद्रनाथ टैगोर आईएएस अफसर बनने वाले पहले भारतीय है. सत्येंद्रनाथ टैगोर परीक्षा की तैयारी करने के लिए 1862 में भारत से इंग्लैंड के लिए रवाना हुए थे.

उन्हें 1863 में सिविल सेवाओं के लिए चुना गया और 1864 में इंग्लैंड में अपनी ट्रेनिंग की अवधि पूरी करने के बाद भारत लौटे. वह आधिकारिक तौर पर भारत के पहले आईएएस अधिकारी थे. इसके बाद उन्हें बॉम्बे प्रेसीडेंसी में तैनात किया गया था और कुछ महीनों के बाद अहमदाबाद शहर में तैनात किया गया.

1 जून 1842 को हुआ था सत्येंद्रनाथ टैगोर का जन्म

सत्येंद्रनाथ टैगोर (Satyendranath Tagore) का जन्म 1 जून 1842 को हुआ था. उन्होंने हिंदू स्कूल से पढ़ाई की और साल 1857 में कलकत्ता यूनिवर्सिटी के लिए एग्जाम देने वाले पहले छात्रों में से एक थे.
सत्येंद्रनाथ टैगोर का विवाह सिर्फ 17 साल की उम्र में ज्ञानदानंदिनी देवी से हो गया था. जब वे आईएएस अधिकारी बने थे, तब उनकी उम्र लगभग 21 साल थी. उन्होंने अपने कर्तव्यों का बखूबी निर्वहन किया. वे एक साहित्य संपन्न परिवार से आते थे, इसलिए उन्होंने साहित्य के क्षेत्र में भी बहुत काम किया.

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: