Connect with us

Hi, what are you looking for?

सच्ची कहानियां

13 साल पहले 15 अप्रैल की उस रात को याद करके आज भी समह जाते है अमरोहा केे लोग‚ अब मिलेगा इन भटकती रूहों को इंसाफ

शलीम और शबनम

अमरोहा. उत्तर प्रदेश के अमरोहा में 15 अप्रैल साल 2008 को प्रेमी के साथ मिलकर अपने पूरे परिवार को बेरहमी से मौत के घाट उतारने वाली शबनम और उसके प्रेमी सलीम को अब फांसी पर लटकाया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट से पुनर्विचार याचिका खारिज होने के बाद अब राष्ट्रपति ने भी इन दोनों की फांसी की सजा को बरकरार रखा है. अब दोनों का फांसी पर लटकना तय हो गया है. मथुरा जेल में महिला फांसीघर में शबनम की फांसी की तैयारी भी शुरू हो गई है.

डेथ वारंट जारी होते ही शबनम को फांसी दे दी जाएगी. वहीं ये पहला मौका होगा जब आजाद भारत में पहली बार किसी महिला अपराधी को फांसी की सजा दी जाएगी. मथुरा स्थित उत्तर प्रदेश के इकलौते फांसी घर में अमरोहा की रहने वाली शबनम को फांसी पर लटकाया जाएगा. निर्भया के दोषियों को फंदे से लटकाने वाले पवन जल्लाद अब तक दो बार फांसी घर का निरीक्षण भी कर चुके हैं.

जानिए क्या है पूरी कहानी

ये कहानी एक ऐसी लड़की की है, जिसे जीवन में वो सब कुछ मिला था, जिसके लिए देश की लाखों बेटियां सपना देखती हैं. ऐसे माता-पिता जो उस पर जान न्योछावर करते थे. समाज की तमाम मुश्किलों को झेलते हुए उन्होंने अपनी बेटी को पढ़ाया और काबिल बनाया. वह अपने पैरों पर खड़ी हो चुकी थी लेकिन उसकी जिंदगी तेजी से करवट भी लेने लगी थी. उसे गांव के ही एक कम पढ़े-लिखे लड़के से प्यार हो गया. परिवार इस प्यार के खिलाफ था, अपना प्यार पाने के लिए उस लड़की ने वो कदम उठाया, जिसका असर आज भी अमरोहा के हसनपुर क्षेत्र में दिखाई देता है. अपने ही माता-पित सहित सात लोगों की हत्या करने वाली शबनम की फांसी का रास्ता अब साफ हो गया है.

उत्तर प्रदेश के अमरोहा (Amroha) जिले से हसनपुर क्षेत्र के गांव के बावनखेड़ी में रहने वाले शिक्षक शौकत अली की इकलौती बेटी शबनम (Shabnam) की ये कहानी है. शौकत अली के परिवार में पत्नी हाशमी, बेटा अनीस, राशिद, बहू अंजुम, बेटी शबनम व 10 महीने का मासूम पौत्र अर्श थे. शौकत अली ने इकलौती बेटी शबनम को बड़े अरमानों से पाला था. उसे बेहतर तालीम दिलवाई. शबनम एमए पास करने के बाद शिक्षामित्र भी हो गई थी. लेकिन इसी बीच शबनम का प्रेम प्रसंग गांव के ही आठवीं पास युवक सलीम से हो गया.

अमरोहा के बावनखेड़ी की घटना

सन् 2008 में 15 अप्रैल को यूपी के अमरोहा जिले के बावनखेड़ी गांव में आधी रात करीब डेढ़ से दो बजे होंगे. एक लड़की के जोर-जोर से चीखने की आज सुनकर आस-पड़ोस वाले इकट्ठा हो जाते हैं. लोग जैसे ही घर के अंदर घुसते हैं, वहां के हालात देखकर दंग रह जाते हैं. अंदर लोगों को सात लाशें दिखती हैं. घर में अकेली सदस्य वह लड़की ही बची दिखती है. जीवित बची ये 25 साल की लड़की शबनम थी और मारे गए लोगों में उसके मां-पिता, दो भाई, एक भाभी, मौसी की बेटी और उसका अपना भतीजा शामिल था.

हत्याकांड से देशभर में सनसनी

आधी रात हुए इस सनसनी खेज हत्याकांड के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैल गई थी. अमरोहा से लेकर लखनऊ तक शासन-प्रशासन में हड़कंप मच गया था. लेकिन किसी को कुछ नहीं पता, सभी रोती-बिलखती शबनम को सांत्वना देने में जुट गए थे. उस समय शबनम ने बताया था कि उसके घर में लुटेरे घुसे और पूरे परिवार की हत्या कर दी. वह सिर्फ इसलिए बच गई क्योंकि वह बाथरूम में थी.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से हुआ था खुलासा

पुलिस इस शुरुआती जानकारी पर छानबीन करती है, पर उसे लुटेरों का कोई सुराग नहीं मिल पाया. पुलिस को जब लुटेरों की थ्योरी से जुड़े सबूत नहीं मिले तो उसने घटना स्थल पर अपना ध्यान केंद्रित किया. शुरुआती जांच में पता चला कि मरने वाले किसी शख्स ने बचने की कोशिश तक नहीं की. सवाल उठने लगे कि ऐसा कैसे? वहीं घर में लूटपाट के सबूत भी नहीं मिलते हैं. इसी बीच पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आती है और पुलिस चौंक जाती है. पता चलता है कि मरने वालों को मारने से पहले उन्हें बेहोश किया गया था, इसमें शायद किसी दवाई का इस्तेमाल किया गया.

बगैर शादी प्रेग्नेंट थी शबनम

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस की शक की सुई शबनम पर घूम गई. जांच तेज हुई तो शबनम की मोबाइल कॉल डिटेल्स खंगाली गईं. पता चला कि हत्या की रात शबनम की एक ही नंबर पर कई बार बात हुई. बाद में पुलिस को शबनम के प्रेगनेंट होने का भी पता चला, ये जानकारी इसलिए और भी केस में अहम हो गई क्योंकि शबनम शादी-शुदा नहीं थी. इसके बाद पुलिस ने शबनम से कड़ी पूछताछ शुरू कर दी. आखिरकार शबनम टूट गई और उसने जो कहानी बताई वह सुनकर सब दंग रह गए.

प्रेमी के साथ मिल रची साजिश

शबनम ने बताया कि उसका गांव के ही सलीम से प्रेम-प्रसंग है. लेकिन शबनम के परिवार को ये रिश्ता मंजूर नहीं था. आखिरकार शबनम ने सलीम के साथ मिलकर अपने ही पूरे परिवार को रास्ते से हटाने की प्लानिंग कर ली. हत्या की रात इन दोनों ने धोखे से पूरे परिवार को खाने में कुछ मिलाकर बेहोश कर दिया उसके बाद कुल्हाड़ी से एक-एक करके सभी को मौत की नींद सुला दिया. पुलिस ने सलीम को भी दबोच लिया और बाद में उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया. सलीम की निशानदेही पर कत्ल में इस्तेमाल की गई कुल्हाड़ी भी पुलिस ने बरामद कर ली.

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: