Connect with us

Hi, what are you looking for?

राज्य/ states

चिंताजनक! देश में पॉजिटिविटी रेट 15 फीसद तक पहुंचा

Corona positivity rate in india: भारत में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 15 फीसदी तक पहुंच चुका है। यानि अगर 100 लोगों का टेस्ट किया जा रहा है तो उसमें से 15 लोग कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं।

खबर शेयर करें

Corona positivity rate in india:  भारत में कोरोना संक्रमण इतना भयावह होता जा रहा है कि अब सरकार की चिंता लगातार बढ़ती जा रही है। सरकार आंकड़ों के अनुसार देश में 146 जिले ऐसे हैं जहां पॉजिटिविटी रेट 15 फीसद से अधिक हो गया है। वर्तमान में देश में सक्रिय मामलों की संख्या 21,57,000 है जो पिछले साल के अधिकतम संख्या के दो गुणा है। रिकवरी दर 85 फीसद जबकि‍ मृत्यु दर 1.17 फीसद है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने जानकारी देते हुए बताया है कि सरकार आने वाले दिनों में सरकार संक्रमितों के इलाज के लिए बेड की संख्‍या और बढ़ाने जा रही है।

विज्ञापन

उन्होने ये भी बताया कि पिछले साल औसतन सबसे ज्यादा मामले 94 हजार रिकार्ड किए गए थे। इस बार पिछले 24 घंटों में 2,95,000 मामले दर्ज़ किए गए हैं। देश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए टीकाकरण अभियान में तेजी से चलाया जा रहा है। देश में 13 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज़ दी जा चुकी हैं। पिछले 24 घंटों में लगभग 30 लाख वैक्सीन डोज दी गई हैं। देश में लगभग 87 फीसद स्वास्थ्यकर्मियों को उनकी पहली डोज दी जा चुकी है। देश में 79 फीसद फ्रंट लाइन वर्कर्स को पहली डोज लगाई जा चुकी है।  

ये भी पढ़ें- Covid Outbreak In India: भारत में कोरोना संक्रमण पर अमेरिका ने जताई चिंता, कहा- हर संभव मदद के लिए तैयार

राजेश भूषण ने बताया कि‍ तीसरे चरण के टीकाकरण के लिए अब नई रणनीति घोषित की गई है। इसके तहत 12 सिद्धांत के तहत टीकाकरण कि‍या जाएगा। टीका निर्माता 50 फीसद वैक्‍सीन की आपूर्ति भारत सरकार को करेंगे जबकि‍ 50 आपूर्ति अन्‍य को की जाएगी। इनमें राज्‍य सरकारें और प्राइवेट अस्‍पताल अब सीधे वैक्‍सीन निर्माता से खरीद कर सकेंगे। वैक्‍सीन की कीमत का सवाल है तो वैक्‍सीन डेवलपर इसके दाम पारदर्शी तरीके से घोषित करेंगे। वैक्‍सीन किसी भी हाल में खुले बाजार में नहीं मिलेगी। 

राजेश भूषण ने बताया कि आने वाले दिनों में वैक्‍सीन डेवलपर से केंद्र सरकार और निजी अस्‍पताल या राज्‍य सरकारों को ही टीकों की आपूर्ति होगी। जैसे अब तक होता आया है कि‍ भारत सरकार की ओर से निजी अस्‍पतालों को वैक्‍सीन उपलब्‍ध कराई जाती थी वह अब नहीं कराई जाएगी। अब केवल दो व्‍यवस्‍थाएं होगी। पहली भारत सरकार की नि:शुल्‍क टीकाकरण की व्‍यवस्‍था जिसमें गरीबों उम्र दराज और बीमार लोगों का टीकाकरण होगा जबकि‍ दूसरी निजी अस्‍पतलों की ओर से टीकाकरण की व्‍यवस्‍था जिसमें लोग सीधे प्राइवेट अस्‍पतालों से वैक्‍सीन लगवाएंगे। 

ये भी पढ़ें- UP: योगी सरकार का आदेश… कोरोना पीड़ित कर्मचारियों को बिना सैलरी काटे देनी होगी 28 दिन की छुट्टी

राजेश भूषण ने बताया कि आने वाले दिनों में वैक्‍सीन डेवलपर से केंद्र सरकार और निजी अस्‍पताल या राज्‍य सरकारों को ही टीकों की आपूर्ति होगी। जैसे अब तक होता आया है कि‍ भारत सरकार की ओर से निजी अस्‍पतालों को वैक्‍सीन उपलब्‍ध कराई जाती थी वह अब नहीं कराई जाएगी। अब केवल दो व्‍यवस्‍थाएं होगी। पहली भारत सरकार की नि:शुल्‍क टीकाकरण की व्‍यवस्‍था जिसमें गरीबों उम्र दराज और बीमार लोगों का टीकाकरण होगा जबकि‍ दूसरी निजी अस्‍पतलों की ओर से टीकाकरण की व्‍यवस्‍था जिसमें लोग सीधे प्राइवेट अस्‍पतालों से वैक्‍सीन लगवाएंगे।  साभार जागरण

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement