Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

UP Panchayat Election: पूरा हुआ ग्राम प्रधानों का कार्यकाल‚ आज से छिन गए सभी वित्तीय और प्रशासनिक अधिकार

उत्तर प्रदेश के कुल 59,163 ग्राम पंचायतों के मौजूदा ग्राम प्रधानों का कार्यकाल आज शुक्रवार यानी 25 दिसंबर शुक्रवार को पूरा हो गया है। इसके अलावा 3 जनवरी 2021 को जिला पंचायत अध्यक्ष और 17 मार्च को क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल भी पूरा हो जाएगा।

खबर शेयर करें

UP Panchayat Election: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों अभी में करीब सवा साल बाकी है। लेकिन इससे पहले राज्य में पंचायत चुनाव की सरगर्मी तेज हो चुकी है। राज्य में पंचायत चुनावों को 2022 के लिटमस टेस्ट के रूप में माना जा रहा है। यूपी में ग्राम प्रधानों का कार्यकाल आज समाप्त हो गया है। लेकिन यूपी में अभी पंचायत चुनावों की कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।

इसके बावजूद, पंचायत चुनाव को लेकर राजनीतिक उत्साह तेज हो गया है और इस बार का पंचायत चुनाव राजनीतिक दलों के लिए एक बड़ा अखाड़ा बनने जा रहा है। उत्तर प्रदेश में पहली बार, राजनीतिक दल पंचायत चुनावों में बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं को मैदान में उतार रहे हैं। सत्तारूढ़ भाजपा, कांग्रेस, सपा, बसपा, अपना दल, आम आदमी पार्टी और एआईएमआईएम सहित सभी विपक्षी दल अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। यही कारण है कि पार्टी के नेताओं ने गांव में किसी न किसी बहाने से गांव के लोगों का दरवाजा खटखटाना शुरू कर दिया है, जिससे राजनीतिक गर्मी बढ़ गई है।

आज पूरा हो गया प्रधानों का कार्यकाल

बता दे कि उत्तर प्रदेश के कुल 59,163 ग्राम पंचायतों के मौजूदा ग्राम प्रधानों का कार्यकाल आज शुक्रवार यानी 25 दिसंबर शुक्रवार को पूरा हो गया है। इसके अलावा 3 जनवरी 2021 को जिला पंचायत अध्यक्ष और 17 मार्च को क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल भी पूरा हो जाएगा। ऐसे में राज्य में ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, 823 ब्लॉक के क्षेत्र पंचायत सदस्य और 75 जिले पंचायत के सदस्यों के 3200 पदों पर चुनाव संपन्न कराए जाने हैं।

उत्तर प्रदेश चुनाव आयोग अगले साल मार्च में राज्य पंचायत चुनाव कराने की तैयारी कर रहा है। ऐसे में फरवरी के दूसरे या तीसरे सप्ताह में यूपी पंचायत चुनाव से संबंधित अधिसूचना जारी हो सकती है। वर्तमान ग्राम प्रधानों का कार्यकाल पूरा होने के बाद, ग्राम पंचायत की वित्तीय और प्रशासनिक शक्तियां सहायक विकास अधिकारी को सौंप दी जाएंगी, जिन्हें पंचायत सचिव द्वारा सहायता प्रदान की जाएगी। सरकार ने इस संबंध में तैयारी कर ली है।

बसपा ने भी कसी कमर

बसपा ने भी पंचायत चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी के समन्वयक जिला पंचायत सदस्य और गांव के मुख्य उम्मीदवार का चुनाव पूरा कर रहे हैं। हाल ही में, बसपा के समन्वयक मुनकाद अली ने कहा कि पार्टी पूरी ताकत और कड़ी मेहनत के साथ पंचायत चुनाव लड़ेगी। इसके लिए, बीएसपी ने अपने बोर्ड और जिला समन्वयक को जिम्मेदारी सौंपी है। बसपा ने पहले जिला पंचायत सदस्य का चुनाव चुनाव चिन्ह पर लड़ा था, लेकिन इस बार उसने ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत के लिए भी तैयारी की है।

अपने सिंबल पर चुनाव लड़ेगी BJP

भाजपा पंचायत चुनाव की तैयारी कर रही है। राज्य के त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में, भाजपा ने अपने स्वयं के प्रतीक या पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार को मैदान में उतारने का फैसला किया है। पंचायत चुनावों के माध्यम से ग्रामीण स्तर पर नेतृत्व का निर्माण करने के लिए, भाजपा ने ग्राम प्रधानों के लिए चुनाव लड़ने की रणनीति तैयार की है।

भाजपा ने पार्टी स्तर पर पंचायत चुनाव लड़ने की घोषणा की है। प्रवक्ता डॉ चन्द्रमोहन का कहना है कि राज्य में आगामी पंचायत चुनाव पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। भाजपा ने पंचायत चुनावों में अपने आधिकारिक उम्मीदवार को मैदान में उतारने का फैसला किया है। राज्य भर में पंचायत चुनावों के लिए जिला संयोजक की नियुक्ति की गई है। इसके अलावा, छह मंत्रियों को चुनाव की जिम्मेदारी दी गई है।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: