Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

UP Panchayat Election 2021: जानिए पंचायत चुनावों को क्यों बोला जाता है त्रिस्तरीय चुनाव और किन पदों पर जनता नही करती है वोट

UP Panchayat Chunav: उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections 2021) का सभी काम लगभग पूरा हो चुका है। अब बस तारीखों की घोषणा होना बाकी है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जनप्रतिनिधियों को कुल छह पदों के लिए चुना जाना है। इनमें से आम जनता केवल चार सीटों के लिए मतदान कर सकेगी, लेकिन दो सीटें ऐसी हैं जिन पर जनता चुनाव नहीं कर करेगी। जिन पदो पर आप वोट नहीं दे पाएंगे उनमें ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष पद हैं। आइए जानें इसका कारण कि आखिर इन पदों जनता क्यों सीधे वोट नही कर सकती है।

सबसे पहले, हम जानते हैं कि पंचायत चुनावों को तीन स्तरीय क्यों कहा जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पंचायत प्रणाली में तीन स्तर हैं। पहला स्तर गांवों का आधार है और फिर पंचायत का क्षेत्र स्तर यानी ब्लॉक स्तर और तीसरा जिला स्तर। तीनों स्तरों में दो-दो पदों के लिए विकल्प हैं। इसका मतलब कुल 6 पद हैं। इनमें से 4 पदों के लिए चुनाव प्रत्यक्ष हैं। जबकि दो पदों पर अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव किया जाता है।

प्रत्यक्ष यानि जिसे जनता ने चुना है और अप्रत्यक्ष वो जो जनता द्वारा चुना गया प्रतिनिधि फिर अपना एक प्रतिनिधि चुने। ठीक उसकी प्रकार जैसे जनता विधायक को चुनती है और विधायक मुख्यमंत्री को चुनते हैं। ग्राम पंचायत स्तर के दोनों पदों पर जनता वोट देकर अपना नेता सीधे ही चुनती है। ये दोनों पद हैं ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत सदस्य के है।

ब्लॉक और जिला स्तर पर, लोग एक पद के लिए मतदान करते हैं, जबकि बाकी दोनों पदों पर जनता के द्वारा चुनकर आये प्रतिनिधि चुनाव करते हैं। आम जनता ब्लॉक स्तर पर क्षेत्र पंचायत सदस्यों और जिला स्तर पर जिला पंचायत सदस्यों का चुनाव करती है। जबकि जिला पंचायत सदस्य ब्लॉक स्तर ब्लॉक प्रमुख का चुनाव करते हैं और जिला पंचायत सदस्य जिला पंचायकत अध्यक्ष का चुनाव करते हैं।

इस तरह, आम जनता ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए चुनाव नहीं करती है। आप इन दो पदों के लिए मतदान नहीं कर सकते। यही कारण है कि ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में काफी उपद्रव होता है। क्षेत्र पंचायत सदस्यों और जिला पंचायत सदस्यों को अपने पाले में करने के लिए साम, दाम, दंड, भेद का भरपूर इस्तेमाल देखा जाता रहा है। पुलिस और सरकार के लिए भी इन दो पदों के चुनाव काफी चुनौती भरे होते हैं।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: