Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

UP: तय सीमा से ज्यादा खर्च किया तो जब्त होगी जमानत राशि, मौजूदा सहकारी समिति अध्यक्ष नही लड़ सकेंगे चुनाव

मनोज कुमार

उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मतदाताओं को लुभाने के लिए कोई मनमाना खर्च नहीं होगा। राज्य चुनाव आयोग ने नामांकन और जमानत राशि की राशि को पिछले चुनावों की तरह ही खर्च की सीमा में कोई बढ़ोतरी नही की है। आयोग ने चुनाव के दौरान उम्मीदवारों के खर्च की निगरानी के लिए जिलाधिकारियों (जिला चुनाव अधिकारियों) को विस्तृत निर्देश जारी किए हैं। पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी करने से पहले राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला मजिस्ट्रेटों से कहा है कि उम्मीदवारों के खर्च के बारे में चुनाव खर्च की निगरानी के लिए उनकी अध्यक्षता में एक जिला स्तरीय समिति का गठन करें।

जिला समिति क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत सदस्य के चुनाव खर्च की निगरानी करेगी। प्रधान के पद के लिए तहसील स्तर पर उप जिला मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में एक समिति होगी। चुनाव की घोषणा तक नामांकन दाखिल करने की तिथि से, उम्मीदवारों को निर्धारित प्रारूप के खाता रजिस्टर में दैनिक चुनाव खर्च का विवरण लिखना होगा। ग्राम पंचायत सदस्य के अलावा अन्य पदों के उम्मीदवारों को भी चुनाव खर्च के लिए एक अलग बैंक खाता खोलना होगा। चुनाव समाप्त होने के तीन महीने के भीतर, उम्मीदवारों को बाउचर के साथ खाता रजिस्टर समिति को प्रस्तुत करना होगा। यदि जांच में व्यय को अधिकतम व्यय सीमा से अधिक पाया जाता है, तो संबंधित उम्मीदवार की जमानत राशि जब्त कर ली जाएगी।

10 हजार से चार लाख तक की सीमा

महंगाई बढ़ने के बावजूद, राज्य निर्वाचन आयोग ने विभिन्न पदों के लिए चुनाव खर्च की सीमा को वर्ष 2015 के चुनावों के समान रखा है। ग्राम पंचायत सदस्य के लिए 10 हजार रुपये, प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) के लिए 75 हजार, जिला पंचायत सदस्य के लिए 1.50 लाख, ब्लॉक प्रमुख के लिए दो लाख, जबकि जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए चार लाख रुपये तक ही खर्च कर सकेंगें।

प्रधान पद के लिए 300 रुपये की नामांकन राशि

इस बार ग्राम पंचायत सदस्य पद के लिए नामांकन की राशि 150 रुपये होगी, जबकि प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए 300, जिला पंचायत सदस्य के लिए 500, ब्लॉक प्रमुख के लिए 800 और जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए 1500 रुपये रखा गया है। आरक्षित वर्ग के लिए नामांकन राशि आधी होगी।

500 से 10 हजार तक होगी जमानत राशि

ग्राम पंचायत सदस्य के पद के लिए जमानत राशि 500 रुपये, प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए दो हजार रुपये, जिला पंचायत सदस्य के लिए चार हजार रुपये, ब्लॉक प्रमुख के लिए 5 हज़ार, और जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए यह राशि 10 हजार रुपये रखा गया है। आरक्षित वर्ग के लिए जमानत राशि 50 प्रतिशत होगी। 

उल्लेखनीय है कि चुनाव में कुल वैध मतों के 1/5 से कम होने पर संबंधित उम्मीदवार की जमानत राशि जब्त करने की व्यवस्था है।

सहकारी समिति के अधिकारी चुनाव नहीं लड़ पाएंगे

किसी भी सहकारी समिति में अध्यक्ष या उपाध्यक्ष का पद रखने वाला व्यक्ति ग्राम पंचायत या न्याय पंचायत सदस्य का चुनाव नहीं लड़ सकता है। अपर निर्वाचन आयुक्त वेद प्रकाश वर्मा ने इस संबंध में सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को एक पत्र जारी किया है, जिसमें उत्तर प्रदेश पंचायत राज अधिनियम,1947 के संबंधित अनुभाग का उल्लेख किया गया है। उन्होंने निर्देश दिया है कि जिला सहायक रजिस्ट्रार सहकारी समितियां नाम और पते की सूची प्रदान कर सकती हैं। सभी विकास खंडों के अंतर्गत समितियों के अध्यक्षों और उपाध्यक्षों की खंड विकास अधिकारियों और सहायक निर्वाचन अधिकारियों के लिए। ये सूची सदस्य ग्राम पंचायत और प्रधान ग्राम पंचायत को निर्देशन के समय उपलब्ध होनी चाहिए।

चुनाव से पहले किए जाने वाले डिफॉल्टरों की सूची

राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला पंचायत अधिकारी, अतिरिक्त मुख्य अधिकारी और जिला पंचायत के मुख्य अधिकारी से ग्राम पंचायतों, क्षेत्र पंचायतों और जिला पंचायतों के डिफॉल्टरों की सूची तैयार करने का निर्देश दिया है। यह सूची नामांकन पत्र प्राप्त करने के लिए निर्धारित स्थान पर उपलब्ध कराई जानी चाहिए। इससे चुनाव अधिकारियों और सहायक चुनाव अधिकारियों को ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों की जांच करने में मदद मिलेगी। आयोग ने कहा है कि बकायेदारों द्वारा बकाया भुगतान करने के बाद ही अदेयता प्रमाणपत्र देने की व्यवस्था करें।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement