Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

UP: 8 साल पहले डूबने से हुई थी मौत‚ दोबारा जन्म लेकर घर पहुंचा बच्चा तो परिवार रह गया हैरान

रोहित की मौत को 8 साल बीत गए हैं तो पड़ोस के गांव नगला अमर सिंह के रहने वाले रामनरेश संखवार का बेटा चंद्रवीर उर्फ छोटू‚ प्रमोद कुमार श्रीवास्तव के घर पहुंचा और उन्हें अपना पिता बताया। हैरान करने वाली बात यह है कि छोटू ने रोहित के बारे में जो जानकारी दी वह बिल्कुल सही निकली। छोटू ने रोहित के बारे कई सारे और राज भी परिवार को बताएं।

खबर शेयर करें

Mainpuri News: मृत्यु के बाद पुनर्जन्म को लेकर इतिहास में बहुत सी घटनाएं दर्ज है‚ लेकिन आज तक इसके कोई वैज्ञानिक आधार सामने नहीं आ सके हैं। ऐसा ही एक और मामला उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जनपद से सामने आया है‚ जहां 8 साल पहले नहर में नहाते वक्त डूबने से 13 साल के बच्चे की मौत हो गई थी। इस बच्चे ने अब अपने घर से कुछ दूर पड़ोस के गांव में दोबारा से जन्म लिया है।

8 साल का यह बच्चा 19 अगस्त को अपने पिता के साथ मृतक बच्चे के परिवार से मिलने घर पहुंचा और सभी को पहचान लिया। इस बच्चे को देखने के लिए गांव के लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। इन लोगों में से दर्जनों लोगों को बच्चे ने पहचान लिया और उनका नाम भी बताया। यह देखकर हर कोई हैरान रह गया।

मृतक रोहित का फाइल फाेटो और पुनर्जन्म लेने वाला छाेटू

दरअसल मैनपुरी जनपद के ग्राम नगला स्लेही में प्रमोद कुमार श्रीवास्तव का परिवार रहता है। इनके परिवार में एक बेटा रोहित और एक बेटी कोमल थे। 2013 में रोहित की कानपुर नहर में नहाते वक्त डूबने से मौत हो गई थी । रोहित की मौत के बाद प्रमोद कुमार श्रीवास्तव पत्नी उषा देवी और बेटी कोमल के साथ जिंदगी गुजार रहे थे। प्रमोद के अनुसार 4 मई साल 2013 को रोहित नहाने की बात कहकर घर से निकला था‚ लेकिन नहर में नहाते वक्त डूबने से उसकी मौत हो गई थी।

अब जब रोहित की मौत को 8 साल बीत गए हैं तो पड़ोस के गांव नगला अमर सिंह के रहने वाले रामनरेश संखवार का बेटा चंद्रवीर उर्फ छोटू‚ प्रमोद कुमार श्रीवास्तव के घर पहुंचा और उन्हें अपना पिता बताया। हैरान करने वाली बात यह है कि छोटू ने रोहित के बारे में जो जानकारी दी वह बिल्कुल सही निकली। छोटू ने रोहित के बारे कई सारे और राज भी परिवार को बताएं।

मृतक रोहित के माता-पिता और बहन

19 अगस्त को रामनरेश संखवार अपने बेटे चंद्रवीर उर्फ छोटू को लेकर प्रमोद कुमार के घर पहुंचे थे। जहां छोटू ने माता पिता और बहन को पहचान लिया। उनसे मिलकर उसने पूर्व जन्म की बातें बताई। यह देखकर आस पड़ोस के गांव वाले भी इकट्ठा हो गए और उससे पुनर्जन्म से जुड़ी हुई बातें पूछने लगे। इस दौरान पूर्व माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य सुभाष चंद्र भी मौके पर पहुंचे तो छोटू ने उन्हें देखते ही पहचान लिया और उनके पैर छूकर कहा कि यह सुभाष मास्टर साहब हैं। यह देखकर हर कोई हैरान रह गया

इसे भी हैरान कर देने वाली बात यह है कि गांव के लोग छोटू को लेकर उसी स्कूल में पहुंचे जहां रोहित पढ़ा करता था। छोटू से जब यह पूछा गया कि वह कौन सी क्लास में पढ़ता था तो छोटू सीधे उसी क्लास में पहुंच गया जहां वह वाकई में ही रोहित पड़ता था। खास बात यह है कि जिस बेंच पर रोहित बैठता था उसने उस बेंच पर उंगली रख कर भी यह बताया कि वह यहां पर बैठा करता था। फिलहाल यह मामला पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। ध्यान रहे कि इससे पहले भी इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं।

यह भी पढ़ें- ये हैं दुनिया की 10 सबसे खतरनाक भूतिया जगह‚ कोई इन्सान नही करता यहां जाने की हिम्मत

यह भी पढ़ें- Meerut: बंद कमरे में तांत्रिक बेटी के साथ करता रहा दुष्कर्म‚ बाहर बैठे परिजन सोचते रहे उतार रहा है “भूत”

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: