Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

मनीष गुप्ता हत्याकांड: दरोगा और आरक्षी भी हुए गिरफ्तार, अब तक 4 पुलिसकर्मी गिरफ्तार

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मनीष के शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले। मनीष की पत्नी मीनाक्षी की तहरीर पर पुलिस ने तीन नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया, तब जाकर परिवार के लोग शव लेकर कानपुर रवाना हुए थे।

खबर शेयर करें

Manoj Kumar

उत्तर प्रदेश: कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता हत्याकांड में गोरखपुर पुलिस ने हत्यारोपी दारोगा राहुल दुबे और सिपाही प्रशांत को गिरफ्तार कर लिया गया है। इससे पहले रविवार की देर शाम इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह और दारोगा अक्षय मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस कांड के चार आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई है। दो अभी भी दो आरोपी फरार चल रहे हैं।

गिरफ्तार एसआई और आरक्षी

बताया गया कि दोनों हत्यारोपी कोर्ट में आत्मसमर्पण करने जा रहे थे। इससे पहले ही पुलिस ने इन दोनों को रामगढ़ताल क्षेत्र के आजाद नगर से गिरफ्तार किया है। अभी भी विजय यादव और मुख्य आरक्षी कमलेश यादव पुलिस की पकड़ से दूर हैं। बता दें कि इन सभी आरोपियों पर एक-एक लाख रुपये का इनाम था। बताया जा रहा है कि पुलिस और एसआईटी इनकी तलाश में लगातार छापेमारी कर रही है।

यह था पूरा मामल

कानपुर के बर्रा थाना क्षेत्र निवासी कारोबारी मनीष गुप्ता 27 सितंबर को अपने दो दोस्तों हरवीर व प्रदीप के साथ गोरखपुर घूमने आए थे। तीनों तारामंडल स्थित होटल कृष्णा पैलेस के कमरा नंबर 512 में ठहरे थे। 27 सितंबर की रात ही रामगढ़ताल थाना प्रभारी इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह, फलमंडी चौकी प्रभारी रहे अक्षय मिश्रा सहित छह पुलिस वाले आधी रात के बाद होटल में चेकिंग को पहुंच गए थे।

कमरे की तलाशी लेने पर मनीष ने आपत्ति जताई तो पुलिसकर्मियों से उनका विवाद हो गया। आरोप है जिसके बाद पुलिस वालों ने उनकी पिटाई कर दी थी जिससे उनकी मौत हो गई थी। शुरुआत में पुलिस की ओर से नशे में गिरने से मौत बताया था मगर बाद में हत्या का केस दर्ज किया गया था।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: