Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

लखनऊ यूनिवर्सिटी: गर्ल्स हॉस्टल में लड़कियों के घुटने से ऊपर कपड़े पहनने पर लगी पाबंदी

Lucknow University: Girls hostel banned from wearing clothes above the knee

लखनऊ यूनिवर्सिटी (Lucknow Univeristy) के गर्ल्स हॉस्टल में छात्राओं के घुटनों से ऊपर कपड़े पहनने पर रोक लगा दी गई है। आदेश नहीं मानने वाली छात्राओं पर जुर्माना लगाने का आदेश जारी किया गया है। आदेश में साफ कहा गया है कि शॉट्स‚ मिनी स्कर्ट‚ माइक्रो स्कर्ट‚ पहनने पर पाबंदी है। साथ यह भी कहा गया है कि आदेश की अवहेलना करने वाली छात्राओं पर जुर्माना लगाया जाएगा।

इस मामले में छात्रावास में बाकायदा नोटिस चस्पा कर दिया गया है। नोटिस के अनुसार हॉस्टल में स्पेगिटी, वल्गर ड्रेस पहनने पर पाबंदी है। घुटनों के ऊपर के ड्रेस‚ वल्गर टॉप‚ पहनने पर जुर्माना देने का प्रावधान भी किया गया है। इस संबंध में चीफ प्रॉक्टर दिनेश कुमार ने कहा है कि मामला मेरे संज्ञान में आया है वह शाम को हॉस्टल में जाकर खुद देखेंगे।

ये भी पढ़ें- UP Panchayat Chunav: 27 मार्च को जारी होगी आरक्षण की फाइनल लिस्ट, इस दिन लागू होगी चुनाव आचार संहिता

तिलक हॉस्टल (Tilak Girls Hostel) के प्रवेश द्वारा जारी नोटिस बोर्ड में लिखा गया है कि कोई भी लड़की अपने ब्लॉक के बाहर शार्ट टॉप घुटने से ऊपर के ड्रेस पहनती हुई ना दिखाई दे। यही नहीं स्पेगिटी और वल्गर टॉप में बाहर जाना भी मान्य नहीं है। अगर कोई भी लड़की इन नियमों का उल्लंघन करती पाई गई तो उस पर ₹100 का जुर्माना लगाया जाएगा।

गर्ल्स छात्रावास के नोटिस बोर्ड पर लगी ये नोटिस सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस पर तमाम तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं। तिलक महिला हॉस्पिटल के प्रोवोस्ट की ओर से जारी नोटिस में छात्राओं को छात्रावास परिसर में बने 3 ब्लॉक में 1 ब्लॉक से दूसरे ब्लॉक में जाने पर घुटनों के ऊपर कपड़े यानि मिनी स्कर्ट‚ माइक्रो स्कर्ट‚ पहनने पर पाबंदी है।

विवि प्रशासन ने किया नोटिस से इंकार

मामला सुर्खियों में आने पर विश्वविद्यालय प्रशासन ने इससे पल्ला झाड़ लिया है। प्रोवोस्ट डॉ. भुवनेश्वरी भारद्वाज ने बताया कि मेरे द्वारा 1 मार्च 2021 से छात्राओं के देर से आने पर जुर्माना लगाया गया है। इनके द्वारा जुर्माना दिया तो नहीं जा रहा, हालांकि उसको कौशन मनी में एडजस्ट करने की बात कही गयी है। कई छात्राओं द्वारा अपने दोस्तों को हॉस्टल में रुकवाया भी जाता है। कई छात्रों में फाइन को लेकर विरोध भी है। उन्होंने कहा कि यह नोटिस मेरे संज्ञान में नहीं है, इस तरह की कोई नोटिस नहीं जारी की गई है। यह किसी की शरारत है।

क्या कहते है जिम्मेदार

वहीं लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर प्रो दिनेश कुमार ने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में आया है. मेरे द्वारा शाम को खुद जाकर इसकी शिनाख्त की जाएगी।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: