Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

BJP ने हिस्ट्रीशीटर को बनाया प्रदेश मंत्री‚ हत्या‚ रंगदारी सहित 16 मुकदमे हो चुके हैं दर्ज‚ मचा हंगामा

Kanpur news: राजनीति में अपराधीकरण का बहिष्कार करने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी अब खुद अपराधियों को राजनीतिक चोला पहनाने में जुटी हुई है। हाल ही में बीजेपी ने एक ऐसे शख्स को प्रदेश मंत्री बनाया है जिसकी थाने में हिस्ट्रीशीट खुली हुई है। उस पर हत्या और रंगदारी समेत 16 अपराधिक मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। मामला सामने आने के बाद पार्टी में अंदर खाने ही बवाल मचा हुआ है‚ जबकि विरोधी दल भी बीजेपी को घेरने में जुट गए हैं।

अरविंद राज त्रिपाठी उर्फ छोटू त्रिपाठी

मामला उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद से है‚ जहां भारतीय जनता युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश की ओर से अरविंद राज त्रिपाठी उर्फ छोटू त्रिपाठी को प्रदेश मंत्री बनाया गया है। बताया जा रहा है कि अरविंद राज त्रिपाठी की जनपद के काकादेव थाने में हिस्ट्रीशीट खुली हुई है। उसके खिलाफ हत्या‚ हत्या का प्रयास‚ रंगदारी सहित करीब 16 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। इनमें से हत्या के मामले में वह लंबे समय तक जेल में भी रह चुका है। ये ज्यादातर मुकदमे सपा और बसपा शासनकाल में दर्ज किए गए हैं।

मामला सामने आने के बाद बीजेपी में भी अंदर खाने हलचल मची हुई है‚ हालांकि कुछ नेता अपनी पार्टी का बचाव करते हुए नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि हो सकता है पार्टी को छोटू के ऊपर दर्ज मामलों की जानकारी नए हो। लेकिन छोटू त्रिपाठी जितना चर्चित नाम है ऐसा नहीं हो सकता है कि पार्टी के किसी सदस्य को उसके इतिहास ना पता हो।

छोटू त्रिपाठी का दावा‚ 15 मामलों में हो चुका है बरी

वहीं छोटू त्रिपाठी का दावा है कि उसके ऊपर दर्ज 16 मामलों में से 15 मामलों में वह बरी हो चुका है। केवल एक मामला ही ऐसा बचा हुआ है जो अभी कोर्ट में विचाराधीन है। छोटू त्रिपाठी का कहना है कि विरोधी पार्टियों ने उनके ऊपर राजनीतिक द्वेष के चलते ज्यादातर मामले दर्ज कराए थे। इसलिए मै एक मामले को छोड़कर सभी मामलों में बरी हो चुका हूं।

हत्या के मामले में हुई थी उम्रकैद की सजा

छोटू त्रिपाठी पर सनी गिल की हत्या का आरोप लगा था। इस मामले में सीतापुर सेशन कोर्ट ने उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। इसके बाद काफी समय तक अरविंद राज त्रिपाठी को जेल में रहना पड़ा था। हालांकि बाद में सबूतों के अभाव के चलते उसे बरी कर दिया गया। फिलहाल त्रिपाठी के प्रदेश मंत्री बनाए जाने को लेकर बवाल मचा हुआ है।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: