Connect with us

Hi, what are you looking for?

उत्तर प्रदेश

UP के कल से खुलेंगे 1 से 5 तक के सभी स्कूल‚ फैसले के खिलाफ याचिका दायर

सरकार के स्कूल खोलने के फैसले के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। लॉ स्टूडेंट अन्वित सिंह और अन्य की ओर से दाखिल याचिक में स्कूलों को बंद रखने की मांग की गई है. पत्र याचिका में कहा गया है कि कोविड की थर्ड वेव की आशंका जताई जा रही है।

खबर शेयर करें

UP School Opening News: यूपी में कोरोना संक्रमण [corona infection] के मामलों में लगातार आ रही गिरावट को देखते हुए योगी सरकार [Yogi Sarkar] ने 1 सितंबर यानि कल से छोटी क्लासों 1 से 5 तक के स्कूलों को भी खोलने का फैसला लिया है। सरकार के फैंसले मुताबिक उत्तर प्रदेश में बुधवार को 1 से 5 तक के सभी स्कूल भी खोल दिए जाएंगे। 23 अगस्त से छह से आठवीं तक के स्कूलों को सरकार पहले ही खोल चुकी है।

विशेष बात यह है कि सरकार के स्कूल खोलने के फैसले के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। लॉ स्टूडेंट अन्वित सिंह और अन्य की ओर से दाखिल याचिक में स्कूलों को बंद रखने की मांग की गई है. पत्र याचिका में कहा गया है कि कोविड की थर्ड वेव की आशंका जताई जा रही है। हालांकि इस याचिका में कोई दम नजर नही आ रहा है कि क्योंकि तीसरी लहर को लेकर अभी तक कोई वैज्ञानिक आधार सामने नही आया है। बहुत मुमकिन है कि कोर्ट इसे खारिज कर सकता है।

अब कल यानि एक सितंबर से कक्षा 1 से पांचवी तक के विद्यालयों को भी फिर से खोलने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने राज्य स्तरीय स्वास्थ्य विशेषज्ञ सलाहकार समिति की अनुशंसा पर यह फैसला लिया था। इससे पहले मुख्यमंत्री ने कक्षा 9 से 12वीं तक के स्कूलों को खोलने का निर्देश दिया था। जिनमें फिलहाल दो पालियों में कक्षाएं चलाई जा रही है

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि स्कूलों में कॉविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए। बिना मास्क और सैनिटाइजर के बच्चों को स्कूल में प्रवेश ना दिया जाए। इसके अलावा स्कूल पहुंचने से पहले स्कूलों को बच्चों के माता-पिता से लिखित अनुमति लेने की भी जरूरत होगी। मुख्यमंत्री ने छोटी क्लासों को भी दो पालियों में संचालित करने का आदेश दिया है। जिसमें पहली पाली सुबह 8:00 से 12 बजे तक तथा दूसरी 12:30 से 4:30 तक चलेगी।

सरकार के फैसले से लाखों बच्चों और अभिभावकों को राहत मिली है। क्योंकि पिछले 16 माह से स्कूल और कॉलेज बंद चल रहे हैं। लम्बी छुट्टी की वजह से बच्चों की शिक्षा का स्तर काफी हद तक खराब हो चका है। घर पर रहने से बच्चे मानसिक रूप से बिमार भी हो रहे हैं। कुछ बच्चों में चिड़चिड़ेपन की शिकायत देखने का मिली है। इस वजह से अभिभावकों की भी परेशानी बढ़ रही थी। इसके अलावा लंबे समय से बंद होने की वजह से निजी स्कूलों की हालत भी नाजुक हो चुकी है।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: