Connect with us

Hi, what are you looking for?

राज्य/ states

जयपुर: 12 लोगों ने 3 चलती गाड़ियों में 1 युवती के साथ किया गैंगरेप, वीडियो वायरल होने के बाद पता चला घटना का

सोशल मीडिया पर चलती कार में एक महिला के बलात्कार के वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस द्वारा पीड़िता को जयपुर बुलाया गया और मामला दर्ज कर 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया। घटना करीब 6 महीने पहले की बताई जा रही है। जिसमें तीन कारों में एक महिला के साथ बलात्कार करने और उसके साथ मारपीट करने की बात सामने आई है।

यूपी में सोशल मीडिया पर चलती कार में सामूहिक बलात्कार का एक वीडियो वायरल हुआ। जब वीडियो जयपुर पुलिस को मिला, इसकी जांच की गई। वीडियो में यह स्पष्ट हो रहा था कि महिला के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ था।  इस वीडियो में अन्य व्यक्तियों के साथ एक महिला और एक पुरुष की आवाज आ रही थी। साथ ही, एक व्यक्ति महिला की पिटाई कर रहा था।  पुलिस को जयपुर क्षेत्र के लोगों की आवाज मिली। जिसके बाद घटना को गंभीरता से लिया गया और पुलिस ने इस वीडियो में दिखाई दे रहे लोगों की पहचान के लिए सीएसटी और शहर के चार जिलों के डीएसटी और पुलिस स्टेशनों की टीमों को तैनात किया।  पीड़िता की पहचान यूपी निवासी एक महिला के रूप में हुई थी, जिसके बाद पुलिस ने पीड़िता को जयपुर बुलाया और पीड़िता की ओर से मानसरोवर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया।

मामला दर्ज करते हुए पीड़िता ने कहा कि 19 अक्टूबर, 2020 को वह न्यू सांगानेर रोड स्थित साई कृपा होटल में रुकी थी। इस दौरान महिला के जानकार संजू बंगाली ने उसे पैसे का लालच देकर एक लड़के के साथ भेजा। लड़के को यश होटल के पास  एक कार में बैठाया गया था। कार में 4 अन्य लोग पहले से मौजूद थे। कार के युवकों ने महिला का मोबाइल छीन लिया और महिला को महिंद्रा वर्ल्ड सिटी जयपुर ले जाकर बलात्कार किया।

इस दौरान कार में बैठे अन्य लोगों ने उसका वीडियो बना लिया।  इस दौरान दो अन्य कारो में अन्य युवक भी आए और उसे दूसरी कार में ले गए और उसके साथ दुष्कर्म किया। इस मामले में लगभग 12 लोगों को आरोपी माना जा रहा है, जो महिला के साथ बलात्कार और हमले में शामिल थे। पीड़िता ने बताया कि वह इन लोगों में गुलाब और अभिषेक को पहचानती है। गुलाब ने पीड़ित को धमकी दी थी कि अगर उसने किसी को इस बारे में बताया तो वीडियो वायरल हो जाएगा और उसे बदनाम कर देगा।  जिसके कारण 6 महीने बाद भी पीड़िता ने सामूहिक दुष्कर्म की बात किसी को नहीं बताई।

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अजयपाल लाम्बाने ने बताया कि मामले में चार डीसीपी सहित लगभग 10 आईपीएस और 40 एसआई की एक टीम बनाई गई थी। टीम में लगभग 100 पुलिसकर्मी शामिल थे जो पीड़ित और आरोपी युवकों की तलाश कर रहे थे।  रविवार सुबह, पुलिस को उत्तर प्रदेश के हरदोई में महिला के रहने के बारे में पता चला, जिसके बाद पुलिस ने लड़की से संपर्क किया और उसे जयपुर बुलाया।

रविवार रात को लड़की ने मानसरोवर पुलिस स्टेशन जयपुर में मामला दर्ज कराया।  जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अभिषेक, मोंटी और संजू बंगाली को लखनऊ, इंदौर और जयपुर के कई इलाकों में गिरफ्तार किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल करवाने के बाद 161 सीआरपीसी बयान लिए हैं। पुलिस अब अन्य आरोपियों को गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: