Connect with us

Hi, what are you looking for?

बिहार

नसबंदी कराने के 2 साल बाद फिर से गर्भवती हुई महिला‚ स्वास्थय विभाग से की 11 लाख रूपए हर्जाना देेने की मांग

Muzaffarpur News:: बिहार के मुजफ्फरपुर जनपद से परिवार नियोजन से जुड़ा मामला सामने आया है। यहां नसबंदी कराने के 2 साल बाद एक महिला फिर से गर्भवती हो गई। इस महिला ने अब सरकार से 11लाख रुपए हर्जाना देने की मांग की है। ऑपरेशन कराने वाली इस महिला ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव पर उपभोक्ता न्यायालय (Consumer Forum) में केस दर्ज कर ₹11लाख रूपए की मांग की है। 16 मार्च को अब इस मामले की अगली सुनवाई तय की गई है।

आपको बता दें कि मुजफ्फरपुर जिले के मोतीपुर महना गांव की रहने वाली फूल कुमारी ने साल 2019 में परिवार नियोजन के तहत अपना ऑपरेशन कराकर नसबंदी कराई थी। 27 जुलाई 2019 को फूल कुमारी का ऑपरेशन मोतीपुर पीएचसी में हुआ था।

ये भी पढ़ें- Shamli: दर्दनाक हादसा, मिट्टी भराव के चलते मज़दूर की ट्रेक्टर-ट्राली के नीचे दबने से दर्दनाक मौत

फूल कुमारी को पहले से ही 4 बच्चे हैं और वह पांचवा बच्चा पैदा करना नहीं चाहती थी। लेकिन नसबंदी कराने के बावजूद कुछ दिन पहले उसे पता चला कि वह फिर से गर्भवती हो गई है। फूल कुमारी पांचवें बच्चे के भरण पोषण के लिए तैयार नहीं है। उसका कहना है कि जब उसने मोतीपुर पीएचसी में जाकर जानकारी दी तो उसका अल्ट्रासाउंड कराया गया। रिपोर्ट में वह गर्भवती पाई गई है।

घटना के बाद से फूल कुमारी तनाव में है वह अपने पांचवें बच्चे के बेहतर भविष्य के लिए परेशान हैं जिसके चलते अब उन्होंने स्वास्थ्य विभाग पर ₹1100000 हर्जाने देने की मांग की है। फुल कुमारी के वकील डॉक्टर एस. के. झा का कहना है कि यह बेहद ही गंभीर मामला है जिसके लिए स्वास्थ्य महकमे के सर्वोच्च पदाधिकारी भी जिम्मेदार हैं।

दायर वाद में प्रधान सचिव के अलावा स्वास्थ्य सचिव परिवार नियोजन के उप निदेशक और मोतीपुर पीएचसी के प्रभारी डॉ को भी पक्षकार बनाया गया है। फूल कुमारी के वकील का यह भी कहना है कि वह उसे न्याय दिलाने के लिए इस लड़ाई को हर स्तर तक लड़ने के लिए तैयार हैं।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: