दुनिया में ट्रैवल करने के लिए अलग-अलग मोड मौजूद हैं। कोई बस या कार से ट्रैवल करना पसंद करता है तो कोई ट्रेन या फिर प्लेन से सफर करता है। लोग अपनी सुविधा के मुताबिक अपना ट्रांसपोर्ट मोड चुनते हैं। मगर सोचिए आपने ट्रैवल करने के लिए अच्छा-खासा पैसा खर्च किया ताकि आप आराम से सफर कर सके मगर आपको शौचालय में बैठकर पूरा सफर करना पड़े तो कैसा लगेगा। ऐसा एक यात्री के साथ हुआ जो स्पाइसजेट की फ्लाइट में सफर कर रहा था। आइए आपको बताते हैं कि इसके पीछे क्या कारण है?

क्यों शौचालय में करना पड़ा सफर

यह घटना बीते मंगलवार की है जब 2 बजे प्लेन के उड़ान भरने के बाद एक यात्री शौचालय के लिए गया। शख्स ने शौचालय में जाने के बाद दरवाजा लॉक किया। मगर उसकी दिक्कत तब शुरू हुई जब उसने दरवाजे को अनलॉक करने की कोशिश की। दरवाजे के लॉक में कथित खराबी आ जाने के कारण दरवाजा नहीं खुल पाया और उसे पूरा सफर बाथरूम के अंदर बैठकर ही करना पड़ा। शख्स तब बाहर निकल पाया जब टेक्निशियन ने दरवाजा खोला।

यात्री को दिए लेटर में क्या लिखा?

बाथरूम में फंसे यात्री की मदद के लिए क्रू मेंबर वहां मौजूद रहें। उन्होंने शख्स को हाथ से लेटर लिखकर उसकी हिम्मत बढ़ाने का काम किया। उस लेटर में उन्होंने लिखा कि, ‘सर हमने दरवाजा खोलने की पूरी कोशिश की मगर नहीं खोल पाएं। आप घबराइए मत, हम कुछ ही समय में नीचे उतर जाएंगे। आपस कमोड को बंद करके उसपर बैठ जाइए और खुद को सुरक्षित कीजिए। जैसे ही प्लेन का मेन डोर खुलेगा और एक इंजीनियर आएगा। आप घबराइए मत।

स्पाइसजेट ने क्या बताया?

इस मामले पर स्पाइसजेट के प्रवक्ता ने आधिकारिक बयान जारी करते हुए कहा कि, ’16 जनवरी को मुंबई से बेंगलुरु जाने वाली स्पाइसजेट की उड़ान में एक यात्री दुर्भाग्य से लगभग एक घंटे तक शौचालय के अंदर फंसा रहा जब विमान हवा में था और दरवाजे (बाथरूम के) में खराबी आ गई थी। पूरी यात्रा के दौरान हमारे दल ने यात्री को सहायता के साथ गाइड किया। प्लेन के उतरने पर एक इंजीनियर ने शौचालय का दरवाजा खोला, और यात्री को तत्काल चिकित्सा सहायता मिली दी गई।’उन्होंने यह भी बताया कि, उस यात्री को पूरे पैसे रिफंड कर दिए गए हैं।

आँखों देखी