फोटो साभार सोशल मीडिया

नई दिल्ली: सोशल मीडिया कंपनी मेटा(Social media company Meta), जिसे कुछ महीने पहले तक फेसबुक(Facebook) के नाम से जाना जाता था, ने भारत की महिलाओं(Womens) की सुरक्षा(Saftey) को ध्यान में रखते हुए तीन नई पहल की है। इन प्रयासों में एक विशेष मंच भी शामिल है जो महिलाओं की अंतरंग तस्वीरों का ध्यान रखेगा। आपको बता दें कि मेटा के ये प्रयास साइबर क्राइम(cybercrime) के बढ़ते मामलों को देखते हुए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म(Online platfrom) पर महिलाओं की सुरक्षा का ख्याल रखेंगे. आइए इनके बारे में विस्तार से जानते हैं।

यह भी पढें-Reliance Jio के पैंतरे से दर्द में यूजर्स! कीमत वही रख कम कर दी वैलिडिटी; जानिए इन Plans के बारे में

मेटा ने उठाया नेक कदम
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर भारत की महिलाओं की सुरक्षा का ख्याल रखने के लिए मेटा ने एक नई पहल शुरू की है। इस पहल में कंपनी ने तीन कोशिशें की हैं, जिसमें एक नया प्लेटफॉर्म, महिला सुरक्षा हब को भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराना और कंपनी के वैश्विक महिला सुरक्षा विशेषज्ञ सलाहकारों में भारतीय सदस्यों को शामिल करना शामिल है। .

मेटा ने लॉन्च किया नया प्लेटफॉर्म
हम जिस नए प्लेटफॉर्म के बारे में बात कर रहे हैं, वह नॉन-कॉन्शियस इंटिमेट इमेज (NCII) के साझाकरण की जाँच करता है और उसे सीमित करता है। इसे StopNCII.org के नाम से जाना जाता है और भारत में इसने सोशल मीडिया मैटर्स, रेड डॉट फाउंडेशन और सेंटर फॉर सोशल रिसर्च जैसे संस्थानों के साथ भागीदारी की है।

इस प्लेटफॉर्म की मदद से महिलाएं इस प्लेटफॉर्म पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं, जिनकी अंतरंग तस्वीरें फेसबुक, लिंक्डइन, बम्बल और डिस्कॉर्ड जैसे प्लेटफॉर्म पर पोस्ट की गई हैं। यह प्लेटफॉर्म इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर नजर रखेगा और जल्द से जल्द इनसे महिलाओं की तस्वीरें हटाने की कोशिश करेगा। महिलाएं चाहें तो इस प्लेटफॉर्म पर अपने केस का स्टेटस भी चेक कर सकती हैं।

यह भी पढें-Flipkart से केवल 17 हजार रुपये में ऐसे खरीदें Dell का तगड़ी बैटरी वाला Laptop, ऑफर जान आपको भी आ जाएगा मजा

भारतीय भाषाओं में वुमन्स सेफ्टी हब
महिला सुरक्षा हब एक ऐसा मंच है जिसमें शोषण का सामना करने वाली महिला नेताओं, पत्रकारों और महिलाओं के लिए कई विशिष्ट संसाधन हैं। इस साइट के आगंतुकों को लाइव सुरक्षा प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण करने का मौका मिलता है। वीडियो-ऑन-डिमांड सुरक्षा प्रशिक्षण का विकल्प भी है। अब विशेष रूप से भारतीय महिलाओं के लिए यह मंच हिंदी, मराठी, पंजाबी, गुजराती, तमिल, तेलुगु, उर्दू, बंगाली, उड़िया, असमिया, कन्नड़ और मलयालम, इन सभी भाषाओं में उपलब्ध कराया गया है।

ग्लोबल वुमन्स सेफ्टी एक्सपर्ट अड्वाइजर्स में अब भारतीय भी
META की वैश्विक महिला सुरक्षा विशेषज्ञ सलाहकार एक समूह है जिसमें पूरे दुबिया से 12 सदस्य शामिल हैं जो कंपनी को अपने ऐप्स से जुड़ी महिलाओं के लिए बेहतर विकास योजनाओं, उत्पादों और योजनाओं की सलाह देते हैं। अभी तक इस समूह में कोई भारतीय सदस्य नहीं था। इस बार मेटा ने इस पैनल में प्वाइंट ऑफ व्यू की कार्यकारी संपादक बिशाखा दत्ता और मीडिया कम्युनिकेशंस, सेंटर फॉर सोशल रिसर्च की प्रमुख ज्योति वदेहरा को शामिल किया है। ये दोनों इस पैनल का हिस्सा बनने वाले पहले भारतीय हैं।

यह पहल भारत की महिलाओं के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को सुरक्षित और बेहतर बनाने की दिशा में मेटा का एक प्रयास है और कंपनी को उम्मीद है कि वे इस प्रयास में सफलता हासिल करने में सक्षम होंगी।

यह भी पढें-Whatsapp पर फिर तेजी से Viral हो रहा ये मैसेज, आपके लिए बन सकता है परेशानी की वजह

Bharti Sharma

Bharti Sharma

Next Story