संवाददाता: नीरज गोला

मेरठ: जानी कला गांव के जंगल में हुई दर्जनो गोवंशों की हत्या में थाना पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जबकि अभी 6 आरोपी पुलिस की पकड़ से फरार चल रहे हैं।

दरअसल, जानी कला गांव में करीब एक माह पूर्व दर्जनों गोवंशों की हत्या कर अवशेषों को खेतो में छोड़ दिये गये थे। घटना का उस वक्त पता चला जब ग्रामीण खेतों पर ईख की बंधाई करने पहुंचे। उनको खेतों में गोकशी के अवशेष पडे दिखाई दिये। ग्रामीणों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। सूचना पर पुलिस व बडी संख्या में हिन्दू दलों के कार्यकताओं ने मौके पर पहुचकर पुलिस के खिलाफ नाबाजी करते हुए थाना प्रभारी संजय वर्मा को निलम्बित कर कड़ी कार्यवाही की मांग की थी।

भारी विरोध के चलते सप्ताह बाद थाना प्रभारी संजय वर्मा को थाने से हटाना पड़ा। घटना में थाना पुलिस ने आठ अभियुक्तों की पहचान की जिनमें फुरकान उर्फ शेख चिल्ली पुत्र इस्तियाक निवासी सिवाल खास, सरफराज पुत्र सरदार अली निवासी जानी कला, युसुफ व शमशाद पुत्रगण साबुद्गीन निवासी निकट कमेला हर्रा थाना सरूरपुर, राशिद पुत्र सगीर निवासी जानी कला, अरशद पुत्र इस्तेकार उर्फ कारी निवासी जानी कला, आबिद पुत्र मुनसफ निवासी सिसौला कला, फुरकान पुत्र सगीर निवासी जानी कंला पाये गये। गोकशी में प्रकाश में आये आठ अभियुक्तों में से दो आरोपी अरशद व फुरकान को गिफ्तार कर जेल भेज दिया। बाकी की तलाश में पुलिस दबिशें में दे रही है ।

Manoj Kumar