Connect with us

लखनऊ

लखनऊ: तेज रफ्तार ट्रक ने ट्रैक्टर ट्राली में मारी टक्कर‚ 10 लोगों की मौत‚ 35 घायल

Published

on

लखनऊ । यूपी में सोमवार सबुह हुए दर्दनाक हादस में 10 लोगों की मौत हो गई। यहां इटौंजा में कुम्हरावां रोड पर गद्दीपुरवा गांव के पास तेज रफ्तार ट्रक ने ट्रैक्टर ट्राली में टक्कर मार दी। टक्कर लगने के बाद ट्रैक्टर ट्राली तालाब में जा गिरी। हादसे में ट्रैक्टर ट्राली सवार 10 लोगों की मौत हो गई, वहीं 35 अन्य लोग घायल हो गए। पुलिस और एसडीआरएफ (राज्य आपदा मोचन बल) के गोताखोरों ने राहत व बचाव कार्य शुरू किया। इसके बाद क्रेन की मदद से ट्रैक्टर ट्राली को तालाब से बाहर निकाला गया।

लखनऊ के इटौंजा में ट्रक ने ट्रैक्टर ट्राली में टक्कर मार दी। दस लोगों की मौत हो गई।

एसडीआरएफ ने तालाब से लोगों को निकाल कर अस्पताल भेजा, जहां दो बालिकाओं समेत 10 लोगों को मृत घोषित कर दिया गया। एक व्यक्ति की हालत गंभीर है, जिसे केजीएमयू ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है।

jagran

वहीं अन्य का सीएचसी में इलाज चल रहा है। मरने वाले लोग इटौंजा इलाके के टिकौली गांव के रहने वाले थे। सभी आपस में रिश्तेदार बताए जा रहे हैं। ट्रैक्टर ट्राली पर सवार होकर सभी लोग उनाई गांव स्थित एक प्राचीन मंदिर में पूजन के लिए जा रहे थे। इसी दौरान ये हादसा हुआ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने मृतकों के परिवार जन को चार-चार लाख रुपये सहायता राशि देने की घोषणा की है। हादसे के बाद मौके पर आईजी लखनऊ लक्ष्मी सिंह, जिलाधिकारी सूर्यपाल गंगवार और बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुँच गई।

उत्तरप्रदेश

सपा से इस्तीफे के बाद नई पार्टी बनाएंगे स्वामी प्रसाद मौर्य? जानें I.N.D.I.A. के बारे में क्या कहा

Published

on

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने आज पार्टी और विधान परिषद की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. इसके बाद उन्होंने नई पार्टी बनाने पर भी चर्चा की. स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि वह नई पार्टी बनाएंगे और 22 फरवरी को राजधानी दिल्ली में इसकी घोषणा करेंगे. मौर्य ने विपक्षी दलों के समूह ‘इंडिया’ गठबंधन को देश की जरूरत बताया और स्पष्ट किया कि वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल नहीं होंगे।

समाजवादी पार्टी पर तंज

आपको बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद उनकी पार्टी से नाराजगी की चर्चाएं चल रही थीं. राष्ट्रीय महासचिव पद से इस्तीफा देने के एक हफ्ते बाद मौर्य ने मंगलवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता और विधान परिषद की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने समाजवादी पार्टी पर तंज कसते हुए कहा, ”सपा में एक नया फैशन शुरू हो गया है.” नाम है समाजवादी और समाजवाद की दुहाई देकर वे इसकी हत्या कर रहे हैं। धर्मनिरपेक्ष होने का दावा करके आज वे यथास्थितिवादी ताकतों को बढ़ावा दे रहे हैं।

सपा छोड़ने की वजह क्या है?

स्वामी प्रसाद मौर्य ने आगे कहा कि ”सपा छोड़ने का कारण मुख्य रूप से विचारधारा है.” उन्होंने कहा कि मैंने कभी भी विचारधारा पर आधारित पोस्ट को महत्व नहीं दिया और उसी के तहत मैंने नया रास्ता चुना. उन्होंने कहा कि वह 22 फरवरी 2024 को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में नई पार्टी की घोषणा करेंगे. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही कार्यकर्ताओं की राय से आगे की रणनीति तय की जायेगी.

आप गठबंधन में शामिल होंगे या नहीं?

पार्टी का ‘एन.डी.ए.’ या ‘आई.एन.डी.आई.ए.’ बीजेपी के साथ गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस संबंध में फैसला नई पार्टी के गठन की घोषणा के बाद लिया जाएगा. उन्होंने कहा, ”हां, यह सच है कि मौजूदा राजनीतिक माहौल में ‘आई.एन.डी.आई.ए.’ गठबंधन इस देश की जरूरत है.” एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ”हमें गठबंधन की जरूरत पड़ेगी, (इंडिया) गठबंधन में रहेगी, बाहर से ताकत देने की जरूरत पड़ेगी, हम ताकत देंगे. बाहर से, लेकिन लक्ष्य हमारे लोकतंत्र और संविधान को बचाना होगा।” सपा छोड़ने का दर्द बयां करते हुए मौर्य ने कहा, ”जब वैचारिक मतभेद, मनभेद हो तो मिलकर काम करना संभव नहीं होता। ”

Continue Reading

उत्तरप्रदेश

UP News: लखनऊ जिला जेल में 63 कैदी पाए गए एचआईवी संक्रमित, मचा हड़कंप

Published

on

लखनऊ: यूपी के लखनऊ से बड़ी खबर सामने आई है. यहां जिला जेल में 63 कैदी एचआईवी संक्रमित पाए गए हैं. जेल प्रशासन ने कैदियों का मेडिकल टेस्ट कराया था, जिसमें ये चौंकाने वाली जानकारी मिली. समाचार एजेंसी पीटीआई के हवाले से यह खबर सामने आई है.

जेल अधिकारियों ने क्या कहा?

जेल अधिकारियों ने साझा किया कि अधिकांश संक्रमित कैदियों का नशीली दवाओं की लत का इतिहास था। उन्होंने दावा किया कि जेल परिसर के बाहर दूषित सीरिंज के इस्तेमाल से कैदी इस वायरस के संपर्क में आये. अधिकारियों ने यह भी दावा किया कि जेल के अंदर रहने के दौरान कोई भी कैदी इस वायरस की चपेट में नहीं आया। अधिकारियों ने दावा किया कि पिछले पांच साल में किसी भी संक्रमित कैदी की मौत नहीं हुई है.

जेल महानिदेशक का बयान आया सामने

जेल महानिदेशक (डीजी-जेल) एस एन साबत ने पीटीआई-भाषा को बताया, “पिछले पांच वर्षों में जिला जेल, लखनऊ में एचआईवी संक्रमण के कारण किसी भी कैदी की मौत नहीं हुई है। हम समय-समय पर सभी जेलों में एचआईवी संक्रमित लोगों के मामले देख रहे हैं।” उत्तर प्रदेश की जेलें।” आइए लोगों का परीक्षण करें। लखनऊ जेल में भर्ती होने के बाद एक भी व्यक्ति एचआईवी से संक्रमित नहीं हुआ है। वे पहले से ही संक्रमित थे. अधिकांश प्रभावित कैदी नशीली दवाओं के दुरुपयोग के कारण संक्रमित हुए थे।”

एचआईवी क्या है और यह कैसे फैलता है?

ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस (एचआईवी) संक्रमित व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करता है और उसे पंगु बना देता है। यदि रोगी का इलाज नहीं किया जाता है, तो यह वायरस गंभीर बीमारी एक्वायर्ड इम्यून डेफिशिएंसी सिंड्रोम, जिसे एड्स भी कहा जाता है, का कारण बन सकता है।

एचआईवी संक्रमण का सबसे गंभीर चरण एड्स है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ से फैलता है, जिसमें रक्त, स्तन का दूध, वीर्य और योनि तरल पदार्थ शामिल हैं। यह चुंबन, आलिंगन या भोजन साझा करने से नहीं फैलता है। यह मां से उसके बच्चे में भी फैल सकता है।

Continue Reading

उत्तरप्रदेश

हथियारों का शौकीन 70 साल का लल्लन पकड़ा गया, लखनऊ में सरेआम 3 लोगों की कर दी हत्या

Published

on

लखनऊ. लखनऊ के तिहरे हत्याकांड को अंजाम देने वाले आरोपी लल्लन खान और उसके बेटे फ़राज़ खान को गिरफ्तार कर लिया गया है. मलिहाबाद थाना क्षेत्र के रहमतनगर गांव में शुक्रवार को जमीन बंटवारे को लेकर विवाद हो गया। इसमें आरोपियों ने पति-पत्नी और उनके बेटे की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी.

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक जमीन विवाद में मुनीर, फरहीन और उसके बेटे हंजला की हत्या की गई है. इसमें मृतक फरहीन के चाचा लल्लन, उनके बेटे फ़राज़ और अन्य पर हत्या का आरोप लगाया गया है। उनके बीच विवादित जमीन को लेकर एसडीएम कोर्ट में मुकदमा चल रहा था। पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को परिवार के कुछ सदस्य थार गाड़ी में आए थे और जमीन के मुद्दे पर बहस की थी.

गोली लगने से तीन की मौत

विवाद इतना बढ़ गया कि एक पक्ष ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं। इस गोलीबारी में एक महिला समेत दो लोगों की मौत हो गई, जबकि तीसरे की अस्पताल में मौत हो गई. तभी से आरोपी पिता-पुत्र फरार चल रहे थे। यह फायरिंग मृतक के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हत्या तीन बीघे जमीन के लिए की गई.

हिस्ट्रीशीटर के नाम दर्ज हैं दो दर्जन केस

मीडिया रिपोर्टस् के मुताबिक ट्रिपल मर्डर केस में मुख्य आरोपी लल्लन सिंह हिस्ट्रीशीटर है. उसके खिलाफ 24 से अधिक केस अलग-अलग थानों में दर्ज हैं. उसकी उम्र 70 साल हो चुकी है. वह 1980 के दशक का बड़ा बदमाश है. उस दौर में वह घोड़े से चलता था और खुद को गब्बर सिंह कहलाना पसंद करता था. अब पुलिस ने आरोपी लल्लन खान और उसके बेटे फराज को गिरफ्तार कर लिया है.

Continue Reading
Advertisement

Trending

Copyright © 2017 Zox News Theme. Theme by MVP Themes, powered by WordPress.