Connect with us

Hi, what are you looking for?

रोचक जानकारी

विश्व गौरैया दिवस: आधुनिकरण के कारण विलुप्त होने की कगार पर है गौरैया

आज हम गौरैया दिवस मना रहे हैं। इस पक्षी को बचाने के लिए विभिन्न अभ्यासों के तहत गौरैया संरक्षण पखवाड़ा भी मनाया जा रहा है। हालाँकि, पिछले 15 वर्षों में इसके सार्थक परिणाम सामने आए हैं।

खबर शेयर करें

Author: मनोज कुमार

फोटो- सोशल मीडिया

World Bird day hindi news – पर्यावरण और पक्षी प्रेमियों के लिए 20 मार्च का दिन विशेष है। इस दिन विश्व गौरैया दिवस मनाया जाएगा। गौरैया, जो कभी हमारे घर में चहकती थी, वर्तमान समय में गौरैया की चहक सुनाई नहीं देती। हालांकि गाँवों में अभी भी गौरैया की चहचहाहट सुनाई देती है। गौरैया, जिसे स्वतंत्रता, उल्लास, परंपरा और संस्कृति का प्रतीक माना जाता है, का उल्लेख रामायण और महाभारत में सबारा के नाम से मिलता है। बढ़ती शहरीकरण के कारण यह पक्षी प्रजाति विलुप्त होने के कगार पर है।

आज है विश्व गौरैया दिवस

आज हम गौरैया दिवस मना रहे हैं। इस पक्षी को बचाने के लिए विभिन्न अभ्यासों के तहत गौरैया संरक्षण पखवाड़ा भी मनाया जा रहा है। हालाँकि, पिछले 15 वर्षों में इसके सार्थक परिणाम सामने आए हैं। पिछले दो दशकों में गौरैया लुप्त होने के कगार पर पहुंच गई है। पर्यावरणविद संजय कुमार का कहना है कि आधुनिकीकरण ने पक्षी की इस प्रजाति को लगभग मार दिया है।

यह छोटा पक्षी मनुष्यों का मित्र है

विशेषज्ञों का कहना है कि गौरैया इंसानों की भी दोस्त है। घरों के आसपास होने के कारण यह हानिकारक कीट-पतंगों को अपने बच्चों के लिए भोजन के रूप में इस्तेमाल करती है। कीड़े खाने की आदत के कारण इसे किसान मित्र पक्षी भी कहा जाता है। यह जमीन में बिखरे अनाज को भी खाता है। यह घरों के बाहर डंप किए गए कचरे में भी अपना आहार ढूंढ लेता है।

राजधानी दिल्ली का राजकीय पक्षी

दिल्ली सरकार ने गौरैया के संरक्षण के लिए इसे राज्य पक्षी का दर्जा दिया है। सरकार गौरैया को वापस दिल्ली लाने की कोशिश कर रही है।  वैज्ञानिकों का मानना है कि गौरैया की 40 से अधिक प्रजातियां हैं, लेकिन शहरी जीवन में बदलाव के कारण उनकी संख्या में 80 प्रतिशत की कमी आई है।

अक्सर झुंड में रहते हैं

गौरैया आमतौर पर झुंड में रहती है। यह भोजन की तलाश में 2 से 5 मील तक जाता है। यह मानव निर्मित एकांत स्थानों या दरारों, पुराने घरों के बरामदों, घोंसलों के निर्माण के लिए बागानों की तलाश करता है।  अक्सर वे मानव आबादी के पास अपने घोंसले का निर्माण करते हैं। उनके अंडे अलग-अलग आकार के होते हैं। गौरैया की हैचिंग (अंडे सेने)की अवधि 10-12 दिनों की होती है, जो कि सभी चिड़ियों की अंडे सेने की सबसे छोटी अवधि होती है।

इस तरह गौरैया के अस्तित्व को बचाएं

पर्यावरण विशेषज्ञों के अनुसार, अपने घरों की छतों या बगीचों में अनाज, बाजरा और चावल डालें।  अगर घर में जगह है, तो पेड़ लगाएं और उन पर लकड़ी या नारियल के जूट से बना घोंसला लगाएं।  एक साफ मिट्टी के बर्तन में पानी भरें।  बालकनी के नीचे छोटे-छोटे निचे बनाएं, ताकि गौरैया वहां अपना घोंसला बना सके।

इस श्राप के कारण समुद्र का पानी खारा है, जानिए पौराणिक कथा…

Story: 18 साल से जंजीरों में जकड़ी है हरिसिंह की जिंदगी, शादी के सप्ताह बाद ही खो दिया था मानसिक संतुलन‚ ये है वजह…

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें  Facebook या  Twitter  पर फॉलो करें.  aankhondekhilive.in पर विस्तार से पढ़ें  देश  की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: