UP: लोगों की जान का दुश्मन बना “कुट्टू का आटा” कई जनपदों में लोगों की बिगड़ी तबियत‚ सोया हुआ है खाद्य विभाग

नवरात्र में श्रद्धालु कुट्टू के आटे से बने व्यंजन खाना पसंद करते हैं। जो अपने क्षेत्र की लोकल दुकानों से इसे खरीदकर लाते हैं। किराना स्टोर संचालक काफी समय का रखा हुआ आटा ग्राहकों को बेच देते हैं। जो दूषित होता है। यही आटा खाने से लोगों की तबीयत खराब हो रही है।

187
अस्पताल में भर्ती लोगों को देखने पहुंचे कांग्रेस नेता

UP News: उत्तर प्रदेश में नवरात्रि के अवसर पर कुट्टू का आटा खाने से कई जनपदों में सैकडों लोगों के बीमार होने की खबरें सामने आ रही हैं। मेरठ‚ मोदीनगर‚ गाजियाबाद‚ मुरादनगर सहित आधा दर्जनों जनपदों में कुट्टू का आटा खाने से सैकड़ों लोगों की तबीयत खराब हो चुकी है। बिमार लोगों का घर और अस्पतालों में इलाज चल रहा है। इतना सब हाेने के बाद भी होली-दीपावली पर छापेमारी करके चर्चा में रहने वाला खाद्य विभाग आँखें बंद हुए बैठा है। 

आपको बता दें कि नवरात्र में श्रद्धालु कुट्टू के आटे से बने व्यंजन खाना पसंद करते हैं। जो अपने क्षेत्र की लोकल दुकानों से इसे खरीदकर लाते हैं। किराना स्टोर संचालक काफी समय का रखा हुआ आटा ग्राहकों को बेच देते हैं। जो दूषित होता है। यही आटा खाने से लोगों की तबीयत खराब हो रही है।

यूपी के मेरठ में बुधवार को कुट्टू का आटा खाने से करीब 50 लोगों की तबीयत खराब हो गई थी‚  जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।  इसके बाद मोदीनगर और गाजियाबाद में भी कुट्टू का आटा खाने से करीब 160 लोगों की तबीयत खराब हो गई। वहीं मुरादाबाद में भी नवरात्र के अवसर पर कुट्टू का आटा खाने से 80 लोगों को अस्पताल में भर्ती बताए जा रहे हैं। अन्य कई जनपदों से भी इस तरह की खबरें सामने आयी है। कुट्टू का आटा खाने से बिमार लोगों का घर पर इलाज चल रहा है।

नवरात्र से पहले नही हाेती छापेमारी

दीपावली और होली पर छापेमारी करके चर्चा बटोरने वाला खाद्य विभाग नवरात्र के दौरान कहीं नजर नही आता है। होली और दीपावली के त्यौहार पर खाद्य विभाग जैसे छापेमारी करता है‚ उसी प्रकार नवरात्रों पर भी छापेमारी होनी चाहिए। ताकि कोई दुकानदार पुराना या खराब सामान लोगों न बेंचे। शासन की ओर से भी इस दौरान विशेष दिशा-निर्देश जारी किए जाने चाहिए।