Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

Space Junk: पृथ्वी के चारों ओर बन सकता है शनि जैसा छल्ला, वैज्ञानिकों ने दी ये चेतावनी

पृथ्वी के चारों ओर शनि जैसा वलय
अमेरिका में यूटा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कहा है कि अंतरिक्ष कबाड़ से इतना भरा है कि हमें चुंबक तकनीक का उपयोग करके पृथ्वी के चारों ओर शनि जैसा वलय बनाना होगा।

खबर शेयर करें
साकेंतिक चित्र सोशल मीडिया

वाशिंगटन: अंतरिक्ष में उपग्रहों(satellites in space) के बढ़ते कचरे ने वैज्ञानिकों(scientists) की चिंता बढ़ा दी है. वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अंतरिक्ष का मलबा पृथ्वी(Earth) के चारों ओर शनि जैसा वलय बना सकता है।

पृथ्वी के चारों ओर शनि जैसा वलय
अमेरिका में यूटा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कहा है कि अंतरिक्ष कबाड़ से इतना भरा है कि हमें चुंबक तकनीक का उपयोग करके पृथ्वी के चारों ओर शनि जैसा वलय बनाना होगा।

सैटेलाइट से टकराने का खतरा
यदि पृथ्वी के चारों ओर शनि जैसा वलय नहीं बना है तो अंतरिक्ष में लगातार बढ़ते मलबे के कारण अन्य अंतरिक्ष यान और उपग्रहों से टकराने का खतरा बढ़ जाएगा। इनमें से कुछ टुकड़े एक उपग्रह को गोली से भी तेज गति से मार सकते हैं।

शोधकर्ताओं के अनुसार, अंतरिक्ष में 17 मिलियन से अधिक मलबे के टुकड़े तैर रहे हैं। इनमें प्राकृतिक उल्कापिंड, कृत्रिम वस्तुओं के टूटे हुए टुकड़े और निष्क्रिय उपग्रह शामिल हैं।

अंतरिक्ष मिशन के लिए यह बड़ा संकट
अंतरिक्ष का मलबा अंतरिक्ष मिशनों के लिए बड़ी समस्या पैदा कर सकता है। पिछले एक दशक में अंतरिक्ष मलबे में 7,500 मीट्रिक टन की वृद्धि हुई है। यह अंतरिक्ष यात्रियों, अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन और पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले सैकड़ों उपग्रहों की सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा है।

पिछले 60 सालों में अलग-अलग देशों की अंतरिक्ष गतिविधियां बढ़ी हैं और इसके साथ ही धरती पर पहुंचने वाला कचरा भी बढ़ रहा है। जुलाई 2016 में, 17,852 कृत्रिम वस्तुओं को निकट अंतरिक्ष में दर्ज किया गया था, जिसमें 1419 कृत्रिम उपग्रह शामिल थे।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: