PMGKAY: अब दिसंबर 2023 तक मुफ्त आनाज देगी मोदी सरकार‚

Free Foodgrain: केंद्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि वह राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 (National Food Security Act) के तहत 81 करोड़ गरीबों को एक साल तक मुफ्त अनाज मिलेगा। लाभार्थियों को जनवरी 2023 से अगले एक वर्ष तक उनकी पात्रता के अनुसार मुफ्त खाद्यान्न प्रदान करेगी। हालांकि, सरकार ने अप्रैल 2020 में शुरू की गई प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY) को बंद कर दिया है।

केंद्र सरकार वहन करेगी खर्च- Piyush Goyal

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने इस बारे में जानकारी देते हुए ट्वीट किया, “ऐतिहासिक निर्णय!गरीबों को खाद्य सुरक्षा के लिए अब कोई पैसा नहीं देना होगा। पीएम नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार इस पर होने वाले लगभग 2 लाख करोड़ रूपए के खर्च को शत-प्रतिशत वहन करेगी।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्विटर पर लिखा, “देश के गरीबों का कल्याण हमारे लिए सर्वोपरि है। ऐसे में उनकी खाद्य सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने ये महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इसका सीधा लाभ देश के लगभग 80 करोड़ से अधिक लोगों को मिलेगा।”

दिसंबर 2023 तक मिलेगा मुफ्त अनाज (Free Foodgrain)

पीयूष गोयल ने कैबिनेट बैठक की जानकारी देते हुए बताया कि सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत देश के 80 करोड़ लोगों को मिलने वाले मुफ्त राशन को एक साल के लिए आगे बढ़ा दिया है। इससे केंद्र सरकार पर 2 लाख करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि राशन के लिए गरीबों को एक भी रुपये नहीं देना होगा।

केंद्रीय खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि सरकार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा एक्ट के तहत चावल 3 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से, गेहूं 2 रुपये प्रति किलो की दर से और मोटा अनाज 1 रुपये प्रति किलो की दर से देती है। सरकार ने फैसला लिया है कि दिसंबर 2023 तक यह पूरी तरह से मुफ्त मिलेगा।

PMGKAY का NFSA में विलय

यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को बंद करने का फैसला किया है? पीयूष गोयल ने कहा, “उसे NFSA के साथ विलय कर दिया गया है। PMGKAY का मुफ्त हिस्सा NFSA में जोड़ा गया है। अब एनएफएसए के तहत 5 किलो और 35 किलो की पूरी मात्रा मुफ्त उपलब्ध होगी। अतिरिक्त खाद्यान्न की कोई आवश्यकता नहीं है।” COVID-19 के तहत हर व्यक्ति को 5 किलो खाद्यान्न सब्सिडी दरों पर NFSA पात्रता के तहत प्रदान किया गया था।

दिसंबर के नवीनतम आवंटन आदेश के अनुसार, एनएफएसए के तहत 13.67 लाख मीट्रिक टन गेहूं और 31.72 लाख मीट्रिक टन चावल की आवश्यकता है। PMGKAY की मासिक आवश्यकता लगभग 40 लाख मीट्रिक टन अनाज है, जिसमें गेहूं 7 लाख मीट्रिक टन और चावल 33 लाख मीट्रिक टन की आवश्यकता है।