फोटो साभार सोशल मीडिया

डरबन: कोरोनावायरस(Coronavirus) का नया ओमाइक्रोन(Omicron Variant) वेरिएंट पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहा है। पिछले एक हफ्ते में ही यह साउथ अफ्रीका (Omicron Cases in South Africa) से 25 देशों में पहुंच चुका है। सबसे खराब स्थिति दक्षिण अफ्रीका में चल रही है। यहां ओमाइक्रोन के मामले एक ही दिन में दोगुने हो गए हैं। स्थिति कितनी चिंताजनक है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दक्षिण अफ्रीका में लेवल वन का लॉकडाउन लगा दिया गया है। बाजार बंद हैं, सड़कें सूनी हैं और लोग फिर से अपने घरों की दीवारों में कैद नजर आ रहे हैं.

यह भी पढें-Omicron से बढ़ी चिंता, साउथ अफ्रीका और अन्य हाई रिस्क वाले देशों से भारत लौटे 6 लोग मिले कोरोना संक्रमित

दक्षिण अफ्रीका में कुल पांच तरह के लॉकडाउन लगाए जा सकते हैं। इसमें सबसे सख्त लॉकडाउन पांचवी कैटेगरी का माना जाता है। अभी के लिए लॉकडाउन की पहली कैटेगरी से लोग परेशान हो रहे हैं। व्यापारी बता रहे हैं कि उनका कारोबार पूरी तरह ठप हो गया है। नुकसान इसलिए भी हो रहा है क्योंकि कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका पर यात्रा प्रतिबंध लगा दिया है। इस सूची में अमेरिका, कनाडा, ब्राजील, थाईलैंड, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर जैसे कई देश शामिल हैं।

पहला मामला 24 नवंबर को सामने आया
24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में ओमाइक्रोन संस्करण का पहला मामला सामने आया था। उस समय ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी थी कि उनके देश में कोरोना का एक नया रूप पाया गया है, जिसे 30 से अधिक बार म्यूटेट किया गया है। आशंका है कि यह वेरिएंट अन्य वेरिएंट की तुलना में कहीं ज्यादा तेजी से फैल सकता है। देश में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पिछले 24 घंटे में भी 11 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं और स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा रही हैं।

गुआटेंग प्रांत से लिए गए थे 77 सैंपल
15 नवंबर के आसपास, गुआटेंग प्रांत से 77 नमूने लिए गए और उनका अनुक्रम किया गया। गहन जांच के बाद विशेषज्ञ इस नतीजे पर पहुंचे कि यह कोरोना वायरस का नया रूप है। इसका जीन इसलिए पकड़ा नहीं जा रहा था क्योंकि इसे म्यूटेट किया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस नए वेरिएंट का नाम B.1.1.1.529 यानी Omicron रखा है। इसे 26 नवंबर को चिंताजनक संस्करण घोषित किया गया था। तब से यह नया वेरिएंट 24 देशों में मिल चुका है।

सभी मरीजों में हल्के लक्षण
इस बीच दुनिया को ओमिक्रॉन वेरिएंट के बारे में बताने वाले दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने राहत का दावा किया है। इन वैज्ञानिकों ने कहा है कि प्राथमिक स्तर पर डेल्टा वेरिएंट से कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट में हल्के लक्षण मिले हैं। साउथ अफ्रीकन मेडिकल एसोसिएशन की प्रमुख डॉ. एंजेलिक कोएत्ज़ी ने बताया कि नए वेरिएंट में मरीजों में थकान, बदन दर्द जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं.

यह भी पढें-Omicron से मुकाबले को भारत कितना तैयार, जानिए आपके राज्य ने क्या की तैयारी

Bharti Sharma

Bharti Sharma

Next Story