Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

New delhi: आसान भाषा में समझिए क्या है “पेगासस जासूसी कांड”‚ इसको लेकर क्यों मचा है भारत में बवाल

Pegasus full details in hindi: कांग्रेस इसको लेकर लगातार सरकार को घेरे हुए है। पेगासस जासूसी कांड के विरोध में मानसून सत्र के दौरान अब तक कई बार संसद की कार्रवाई भी थप करनी पड़ी है। ऐसे में बहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि आखिर पेगासस मामला है क्या?

खबर शेयर करें

What is pegasus in hindi: पेगासस जासूसी कांड [ Pegasus Detective Scandal] को लेकर पिछले कुछ दिनों से भारत में हंगामा मचा हुआ है। कांग्रेस इसको लेकर लगातार सरकार को घेरे हुए है। पेगासस जासूसी कांड के विरोध में मानसून सत्र के दौरान अब तक कई बार संसद की कार्रवाई भी थप करनी पड़ी है। ऐसे में बहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि आखिर पेगासस मामला है क्या? [ What is Pegasus matter]। इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम आपको पेगासस जासूसी मामले की पूरी जानकारी देंगे।

इजराइली सॉफ्टवेयर है पेगासस

फोटो साभार- सोशल मीडिया

दरअसल पेगासस का पूरा नमा पेगासस स्पाईवेयर (Pegasus spyware) है। यह एक इजराइली सॉफ्टवेयर है। इजरायल की कंपनी एनएसओ ग्रुप (NSO Group) ने इस सॉफ्टवेयर का निमार्ण साल 2009 में किया था। इस सॉफ्टवेयर का काम किसी के भी मोबाइल को पूरी तरह से हैक करना है। मोबाइल को हैक करने से पहले हैकर पेगासस स्पाईवेयर सॉफ्टवेयर का एक लिंक मोबाइल पर भेजता है। जैसे ही मोबाइल उपयोगकर्ता इस लिंक को ऑपन करता है वैसे ही पूरा मोबाइल हैकर के कब्जे में आ जाता है। मतलब ये है कि आपके फोन में जितना भी डाटा मौजूद है हैकर उसे अपने कब्जे में ले लेता है। इसके अलावा ये भी सुन सकता है कि आप किससे और क्या बात कर रहें हैं।

इजराइल ने इसलिए बनाया था पेगासस

इजराइल एक ऐसा देश है जो चारों तरफ से अपने दुश्मन देशों से घिरा हुआ है। अपनी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इजराइल ने इस सॉफ्टवेयर का निर्माण किया। इसके पीछे तर्क यह था कि इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से इजराइल अपने दुश्मनों के नेटवर्क को हैक करके यह पता लगाता है कि दुश्मन देश उसके खिलाफ क्या साजिश रच रहे हैं। पेगासस सॉफ्टवेयर के दम पर ही इजराइल ने कई ऐसे आतंकी हमलों को भी नाकाम किया है जो उसके खिलाफ दुश्मन देश करने वाले थे।

40 देशाें को बेचा पेगासस

पेगासस सॉफ्टवेयर की सफलता के बारे में जब दूसरे देशों को पता चला तो इन देशों ने भी इजराइल से इस सॉफ्टवेयर को खरीदने की इच्छा जाहिर की। इजराइल ने भी कुछ शर्तों के साथ इस सॉफ्टवेयर को दूसरों देशों को बेचना शुरू कर दिया। इजराइल की शर्त यह थी कि किसी भी इंडिविजुअल यानी व्यक्तिगत प्रश्न को इस सॉफ्टवेयर को नहीं बेचा जाएगा। मतलब इस सॉफ्टवेयर को केवल किसी देश की सरकार‚ जांच ऐजंसी या अन्य सुरक्षा एजेंसियों को ही बेचा जा सकता है। 2009 से लेकर अब तक इजराइल पेगासस सॉफ्टवेयर को दुनिया भर के करीब 40 देशों को बेच चुका है। इन देशों में भारत का नाम भी शामिल है।

हाेने लगा गलत प्रयोग

पेगासस सॉफ्टवेयर के माध्यम से जहां कई देशों ने अपनी सुरक्षा को लेकर बड़े कदम उठाए वहीं कुछ देशों की सरकार और जांच एजेंसियों अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए इसका गलत उपयोग भी शुरू किया। कई सरकारें अपने विरोधियों के बारे में जानकारी लेने के लिए पेगासस का इस्तेमाल करने लगी। भारत में भी इसको लेकर आरोप लगते रहे हैं। देश में जब कांग्रेस की सरकार थी तब BJP अपनी जासूसी का आरोप लगाती थी। अब जब BJP की सरकार है तो कांग्रेस खुद की जासूसी का आरोप लगा रही है। भारत में समय-समय पर पेगासस सॉफ्टवेयर को लेकर आरोप-प्रत्यारोप लगते रहे हैं।

50 हजार नंबरों का डाटा हुआ लीक

मौजूदा समय में भारत में पेगासस सॉफ्टवेयर को लेकर जो बवाल मचा है उसकी मुख्य वजह यह है कि पेगासस निर्माण करने वाली कंपनी एनएसओ ग्रुप (NSO Group) के माध्यम से ऐसे 50 हजार नंबरों का डाटा लीक हो गया जिन नंबरों की जासूसी की जा रही थी। इन नंबरों में करीब 300 नंबर भारत के रहने वाले लोगों के भी हैं। इन्हीं लोगों में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और विपक्ष के लोगों के नाम भी शामिल है। इसके अलावा देश के कई बड़े पत्रकारों‚ समाज सेवियों‚ एवं अन्य राजनीतिक दलों के लोगों के नाम भी इस लिस्ट में मौजूद हैं।

सरकार को घेर रही है कांग्रेस

नंबरों की लिस्ट लीक होने के बाद कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने सरकार को घेरना शुरू कर रखा है। कांग्रेस का आरोप है कि सरकार उनके नेताओं की जासूसी करा रही है। कांग्रेस का कहना है कि पेगासस सॉफ्टवेयर केवल सरकार या सरकार की जांच एजेंसी ही इस्तेमाल कर सकती है। व्यक्तिगत तौर पर कोई भी इस सॉफ्टवेयर को नहीं खरीद सकता है। ऐसे में कांग्रेस का आरोप है कि सरकार के इशारे पर ही राहुल गांधी या अन्य लोगों की जासूसी की जा रही है। बुधवार को भी कांग्रेस के साथ विपक्ष ने पेगासस जासूसी को लेकर संसद में हंगामा किया जिसके चलते संसद की कार्रवाई को स्थगित करना पड़ा।

यह भी पढ़ें-

मोबाइल सिम की तरह अब किसी भी गैस एजेंसी से सिलेंडर भरवा सकेंगे ग्राहक

महंगाई और बेरोजगारी के चलते थाली से गायब हुआ पौष्टिक आहार‚ कैसे बढ़ाएं इम्यूनिटीॽ

क्या आपको पता है ARMY का पूरा नाम

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें  Facebook या  Twitter  पर फॉलो करें.  aankhondekhilive.in पर विस्तार से पढ़ें  देश  की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: