Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

मेरठ: बिजली विभाग का सुपरिटेंडेंट इंजीनियर दो लाख रूपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

पुलिस ने पीड़ित कम्पनी के डायरेक्टर की तहरीर पर पकडे गए आरोपी अधीक्षण अभियंता देवेंद्र पचौरी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वही रिश्वत लेते गिरफ्तार अधीक्षण अभियंता की जानकारी मिलते ही बिजली विभाग में हड़कंप मच गया।

खबर शेयर करें

Manoj Kumar

आरोपी सुपरिटेंडेंट इंजीनियर पीली शर्ट में

उत्तर प्रदेश: मेरठ विजिलेंस की टीम ने बिजली विभाग में तैनात अधीक्षण अभियंता ग्रामीण प्रथम को उसके कार्यलय से दो लाख रूपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ धरदबोचा है। जिसके बाद विजिलेंस की टीम आरोपी अधीक्षण अभियंता को पकड़कर सिविल लाइन थाने ले आई और उससे पूछताछ की। सुपरिटेंडेंट इंजीनियर ने लाइन शिफ्टिंग के रूटमैप हेंडओवर के बदले बारह लाख की रिश्वत मांगी थी।

चंडीगढ़ की अरविन्द इलैक्ट्रानिक कम्पनी के डायरेक्टर कुलबीर साहनी ने बताया की उनके पास मुरादनगर से लेकर मोदीपुरम तक एनसीआरटीसी के प्रोजेक्ट रैपिड रेल को लेकर बिजली की लाइन का शिफ्टिंग का ठेका है। जिसके चलते अधीक्षण अभियंता ग्रामीण प्रथम ने कुलबीर साहनी से लाइन शिफ्टिंग का रूटमैप के पेपर हैंडओवर लेने के एवज में उनसे बारह लाख रूपये की रिश्वत मांगी थी।

जिसकी उन्होंने विजिलेंस डिपार्टमेंट को शिकायत की। जिसके बाद विजिलेंस टीम ने पूरी प्लानिंग कर कुलबीर साहनी को बुला लिया और रिश्वत के लिए लाये गए दो लाख रूपये पर कैमिकल लगाकर कुलबीर साहनी को भेज दिया जैसे ही कुलबीर साहनी ने अधीक्षण अभियंता के कार्यलय में उन्हें रिश्वत के रूपये दिए तभी विजिलेंस टीम ने उन्हें दबोच लिया।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: