धंस रहा है जोशीमठ: प्रभावित लोगों से मुलाकात करेंगे उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

धंस रहा है जोशीमठ

देहरादून: उत्तराखंड के पवित्र शहर जोशीमठ में घरों और गलियों में बड़ी-बड़ी दरारें बढ़ने का सिलसिला लगातार जारी है। हालात की भयावना देखने के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शनिवार को इस पवित्र शहर का दौरा करेंगे और प्रभावित लोगों से मिलेंगे. सरकार ने प्रभावित लोगों की मदद के लिए हेलीकॉप्टरों को तैयार रखा है.

जोशीमठ डूबने के मुद्दे पर ध्यान देते हुए, सीएम धामी ने शुक्रवार को अधिकारियों को आदेश दिया कि घरों में रहने वाले परिवारों को तुरंत खाली कर दिया जाए, जिनमें बड़ी दरारें हो गई हैं और पवित्र शहर में डूबने का खतरा है।
राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) ने जोशीमठ में 50 कर्मियों को तैनात किया है। एसडीआरएफ के चार अन्य टैम को अलर्ट पर रखा गया है।

यह भी पढ़े- सर्दी से बचने के लिए नदी में घंटों छिपे रहते हैं घड़ियाल, सिर्फ सांस लेने के लिए निकलते है बाहर

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से वैकल्पिक स्थानों की तलाश करने के लिए कहा है ताकि ‘जोशीमठ डूबने’ से प्रभावित लगभग 600 परिवारों को पीपलकोटी, गौचर और राज्य के अन्य स्थानों में स्थायी रूप से बसाया जा सके।
जोशीमठ के सिंगधर वार्ड में एक मंदिर, जिसमें दरारें पड़ गई थीं, 6 जनवरी की शाम को ढह गया।

निवासियों की मांग पर अगले आदेश तक चार धाम ऑल वेदर रोड और नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन की जल विद्युत परियोजना जैसी मेगा परियोजनाओं से संबंधित सभी निर्माण गतिविधियों को रोक दिया गया है।

औली रोपवे के नीचे एक बड़ी दरार आने के बाद रुक गया

केंद्र सरकार ने जोशीमठ में भूमि के धीरे-धीरे धसने का अध्ययन करने के लिए एक पैनल का गठन किया है। केंद्र ने केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय, केंद्रीय जल आयोग, भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण और राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के अधिकारियों को क्षेत्र का अध्ययन करने का निर्देश दिया है।