Connect with us

Hi, what are you looking for?

दुनिया

फ्रांसीसी पत्रिका Charlie Hebdo ने पैगंबर के अब किया हिन्दू देवी-देवताओं को अपमान

Charlie Hebdo ने एक कार्टून जारी किया है। जिसमें भारत में ऑक्सीजन की कमी की आलोचना की। यह कार्टून 28 अप्रैल को प्रकाशित हुआ था। कार्टून में भारतीयों को जमीन पर गिरते और ऑक्सीजन के लिए संघर्ष करते हुए दिखाया गया है।

खबर शेयर करें

New Delhi: पैगंबर पर कार्टून को लेकर विवादों में घिरी फ्रांसीसी पत्रिका Charlie Hebdo ने एक बार फिर खुद को नए विवाद में फंसा लिया है। पत्रिका ने कोविड संकट के दौरान अब हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया है। जिसके चलते सोशल मीडिया पर इस मैगजीन के खिलाफ काफी आक्रोश है। (चार्ली हेब्दो ने भारत की कोविड आपदा और हिंदू देवताओं पर कार्टून जारी किए)

Charlie Hebdo ने एक कार्टून जारी किया है। जिसमें भारत में ऑक्सीजन की कमी की आलोचना की। यह कार्टून 28 अप्रैल को प्रकाशित हुआ था। कार्टून में भारतीयों को जमीन पर गिरते और ऑक्सीजन के लिए संघर्ष करते हुए दिखाया गया है। इसमें हिंदू देवी-देवताओं का भी मजाक उड़ाया गया है। पत्रिका ने 33 करोड़ देवी-देवताओं को कैप्शन देकर हिंदू देवी-देवताओं का मजाक उड़ाया है, कार्टून में दिखाया गया है कि कैसे किसी भी देवता में लोगों के लिए ऑक्सीजन पैदा करने की क्षमता नहीं है।

हम हमला नहीं करेंगे

शिर्ले हेब्दो भी गुरुवार को ट्विटर पर ट्रेंड में था। कई लोगों ने Charlie Hebdo पर प्रतिबंध लगाने की मांग करते हुए कहा कि कार्टून अपमानजनक है। कई लोगों ने अभिव्यक्ति की आजादी का हवाला देते हुए कार्टून का समर्थन भी किया है. कार्टून पर माणिक जॉली नाम के एक यूजर्स ने लिखा है कि प्रिय Charlie Hebdo, हमारे पास 330 मिलियन देवता हैं। उन्होंने हमें हार न मानने का ज्ञान दिया है। हम अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और फ्रांसीसी नागरिकों का सम्मान करते हैं। चिंता मत करो “आपके कार्यालय या कर्मचारियों पर हमला नहीं किया जाएगा।”

सोशल मीडिया यूजर्स ने दी प्रतिक्रिया

एक अन्य उपयोगकर्ता ने कहा कि प्रकृति में 33 करोड़ देवता हैं। लेकिन भारतीय समाज आप जैसे देशों से प्रेरित पेड़ों को काट रहा है। एक यूजर ने कहा कि हम पेड़ों को भी भगवान मानते हैं। एक यूजर ने तो शार्ली एब्दो को एक गलती बता भी दी है। आपने हमारे देवताओं की संख्या 330 मिलियन से बढ़ाकर 33 मिलियन कर दी है। मैं इसका कड़ा विरोध करता हूं, एक यूजर्स ने कहा है। हम आपके कार्टून से आहत नहीं हैं। जिसे आप प्रिंट करना चाहते हैं उसे प्रिंट करें। हम इस बारे में परवाह नहीं करते है। बस इतना ध्यान रखें कि यह 33 मिलियन नहीं बल्कि 33 करोड़ है।

अब क्या करेगी भाजपा

सुप्रीम कोर्ट के वकील ब्रजेश कलप्पा ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होने कहा है कि जब Charlie Hebdo ने इस्लाम विरोधी कार्टून बनाया था उस समय, भाजपा का आईटी सेल जश्न मना रहा था। लेकिन अब भाजपा का आईटी क्या करेगा। वही एक यूजर ने कहा कि मैं फ्रांस और Charlie Hebdo की तरफ हूं। शर्ली हेब्दो को उनकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए जाना जाता है। वे अपना काम कर रहे हैं।

पटनायक ने खड़ा किया विवाद

लेखक देवदत्त पटनायक ने भी ट्वीट कर विवाद खड़ा कर दिया है। उन्होने कहा है कि हिंदुओं ने पैगंबर पर Charlie Hebdo के कार्टून का समर्थन किया था। अब इस कार्टून ने उनकी भावनाओं को आहत किया है। हालांकि बाद में विवाद बढ़ने पर उन्होंने यह ट्वीट डिलीट कर दिया है।

ये भी पढ़ें- Crime News: बहु के प्यार में पागल ससुर ने करा दी जवान बेटे की हत्या‚ ऐसे हुआ साजिश का खुलासा

ये भी पढ़ें- गाजा में रॉकेट हमलों में अब तक 14 बच्चों समेत 65 लोगों की मौत‚ देखें Video

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: