Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

देश में पहली बार पुरुषों से ज्यादा महिलाओं की आबादी, शहर और गांव में दिखा बड़ा अंतर

NFHS-5 सर्वे के मुताबिक देश में प्रजनन दर में भी कमी आई है। प्रजनन दर से तात्पर्य जनसंख्या की वृद्धि दर से है। सर्वेक्षण के अनुसार, देश में प्रजनन दर घटकर 2 रह गई है। 2015-16 में यह 2.2 . थी

खबर शेयर करें

देश में पहली बार महिलाओं(Women) की आबादी में इजाफा हुआ है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5(National Family Health Survey-5) के आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब प्रति 1000 पुरुषों(mens) पर 1,020 महिलाएं हैं। 2015-16 में यह आंकड़ा प्रति हजार पुरुषों पर 991 महिलाओं का था।

यह भी पढें-Space Junk: पृथ्वी के चारों ओर बन सकता है शनि जैसा छल्ला, वैज्ञानिकों ने दी ये चेतावनी

NFHS-5 Sex Ratio Data: देश में पहली बार पुरुषों की तुलना में महिलाओं की जनसंख्या में वृद्धि हुई है। अब प्रति 1,000 पुरुषों पर 1,020 महिलाएं हैं। आजादी के बाद यह भी पहली बार है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं की आबादी 1000 से अधिक पहुंच गई है। यह आंकड़ा राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 (NFHS-5) में सामने आया है। इससे पहले 2015-16 में आयोजित NFHS-4 में यह आंकड़ा प्रति 1,000 पुरुषों पर 991 महिलाओं का हो गया था।

इतना ही नहीं, जन्म के समय सेक्स रेशियो में भी सुधार हुआ है। 2015-16 में, यह प्रति 1000 बच्चों पर 919 लड़कियां थी, जो 2019-21 में प्रति 1000 बच्चों पर 929 लड़कियों तक पहुंच गई है।

गांव में बढ़ा सेक्स रेशियो

NFHS-5 के आंकड़ों में यह भी सामने आया है कि सेक्स रेशियो में सुधार शहरों की तुलना में गांवों में बेहतर रहा है। गांवों में प्रति 1,000 पुरुषों पर 1,037 महिलाएं हैं, जबकि शहरों में 985 महिलाएं हैं। यही बात NFHS-4 में भी सामने आई। उस सर्वेक्षण के अनुसार, गांवों में प्रति 1,000 पुरुषों पर 1,009 महिलाएं और शहरों में 956 महिलाएं थीं।

यह भी पढें-Ajab Gajab News: इस बगीचे में आकर सांस लेते ही चली जाती है जान! 100 से अधिक लोगों की हो चुकी है मौत

23 राज्यों में 1000 पुरुषों पर महिलाओं की जनसंख्या 1000 से अधिक

देश में 23 राज्य ऐसे हैं जहां प्रति 1000 पुरुषों पर महिलाओं की आबादी 1,000 से ज्यादा है। उत्तर प्रदेश में प्रति हजार पुरुषों पर 1017, बिहार में 1090, दिल्ली में 913, मध्य प्रदेश में 970, राजस्थान में 1009, छत्तीसगढ़ में 1015, महाराष्ट्र में 966, पंजाब में 938, हरियाणा में 926, झारखंड में 1050 महिलाएं हैं।

आजादी के बाद से बिगड़ गया था सेक्स रेशियो

1901 में, सेक्स रेशियो प्रति हजार पुरुषों पर 972 महिलाओं का था। लेकिन आजादी के बाद यह संख्या कम हो गई। 1951 में, यह आंकड़ा प्रति हजार पुरुषों पर 946 महिलाओं तक कम हो गया था। 1971 में, यह और कम होकर 930 हो गया। 2011 की जनगणना के अनुसार, इस आंकड़े में थोड़ा सुधार हुआ और प्रति हजार पुरुषों पर महिलाओं की जनसंख्या 940 तक पहुंच गई।

प्रजनन दर भी घटी

NFHS-5 सर्वे के मुताबिक देश में प्रजनन दर में भी कमी आई है। प्रजनन दर से तात्पर्य जनसंख्या की वृद्धि दर से है। सर्वेक्षण के अनुसार, देश में प्रजनन दर घटकर 2 रह गई है। 2015-16 में यह 2.2 थी।

यह भी पढें-UP News: 25 नवम्बर को ‘मांस रहित दिवस’ के रूप में मनाई जाएगी साधु वासवानी की जयंती, मांस की दुकानें रहेंगी बंद

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: