Connect with us

Hi, what are you looking for?

देश

bhaarat band ! मार्केट, रेल, सड़क, सभी होंगी बंद, दिल्ली बॉर्डर के खुले मार्गो को भी बंद करने का ऐलान.

bhaarat band News:- नई दिल्ली. कृषि कानूनों के खिलाफ सघर्ष करते हुए अब तक 4 माह पूरे होने पर किसान संयुक्त मोर्चा ने कल 26 मार्च को भारत बंद करने का ऐलान किया गया है। कल शुक्रवार को सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक यह बंद रहेगा। इस दौरान देश भर की सभी दुकानें, मॉल, बाजार और संस्थान सभी बंद रहेंगे। साथ ही सभी छोटी व बड़ी सड़कें और ट्रेनों को जाम करने करने का भी ऐलान किया है। किसानों ने सिर्फ एंबुलेंस व अन्य आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी को बंद रखने का फैसला लिया है।

यह भी पढ़ें:- पेट दर्द की शिकायत पर अस्पताल पहुंचा शख्स‚ प्राइवेट पार्ट से निकाला 59 फीट का कीड़ा!

आपको बता दे कि संयुक्त किसान मोर्चा के डॉ. दर्शन पाल सिंह के मुताबिक दिल्ली के बॉर्डर पर किसानों के संघर्ष को कल 26 मार्च को 4 माह पूरे हो रहे हैं। जिसके चलते किसान मोर्चा ने किसान विरोधी सरकार के खिलाफ भारत बंद का ऐलान कर दिया है। मोर्चा के आह्वान पर देश के तमाम किसान, मजदूर व छात्र संगठनों, बार संघ, राजनीतिक दलों और अन्य राज्य सरकारों के प्रतिनिधियों ने इस बंद को समर्थन देने का ऐलान भी कर दिया है। दर्शन पाल ने कहा है कि तमाम छोटी और बड़ी सड़कों के बंद रखने के साथ-साथ ट्रेनों को भी जाम किया जाएगा। वहीं उन्होंने यह भी साफ किया है कि भारत बंद का प्रभाव दिल्ली के भीतर भी नजर आएगा।

यह भी पढ़ें:- मेरठ: वन विभाग टीम पर अवैध खनन माफियाओं ने किया जानलेवा हमला, कई कर्मचारी बुरी तरह घायल

आपको बता दे कि उन्होंने कहा है दिल्ली के जिन बॉर्डर पर किसानों का लंबे समय से धरना चल रहा है, वह सड़कें पहले से ही बंद हैं। लेकिन इस दौरान वैकल्पिक रास्ते खुले हुए थे। लेकिन उन्होंने कहा कि कल के भारत बंद के दौरान सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक इन वैकल्पिक रास्तों को भी बंद कर दिया जाएगा। इसका मतलब यह है कि दिल्ली के जो रास्ते खुले हुए हैं। उनका आवागमन बंद होने की वजह से लोगों को कल भारी परेशानी का सामना उठाना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें:- मेरठ: मंदिर के सामने सड़क ऊंची होने पर लोगो ने किया हंगामा

इस दौरान डॉ. पाल ने बताया कि जिन मांगों को लेकर भारत बंद किया जा रहा है उनमें तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने, एमएसपी व खरीद पर कानून बनाने, किसानों पर किए गए सभी पुलिस केस रद्द करने, बिजली बिल और प्रदूषण बिल वापस कराने और डीजल पेट्रोल गैस की कीमतों को कम करने की मांगे प्रमुख रूप से शामिल हैं। मोर्चा ने सभी प्रदर्शनकारी नागरिकों से यह भी अपील की है कि वह इस दौरान शांति बनाकर बंद को सफल बनाएं। किसी प्रकार की अनावश्यक बहस में ना पड़ें। उन्होंने कहा कि यह किसानों के सब्र का ही परिणाम है कि आंदोलन इतना लंबा चला है। उन्होंने कहा कि हमें निरंतर इस संघर्ष में सफलता मिल रही हैं।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement