पुरानी पेंशन बहाली

Old pensioners-  हिमाचल प्रदेश में पुरानी पेंशन बहाली को लेकर वित्त विभाग ने ऑफिस मेमोरेंडम जारी किया है. अधिसूचना जारी होने में अभी और समय लगेगा। अब निगाहें राज्य के 1.36 लाख कर्मचारियों को पुरानी पेंशन देने के फॉर्मूले पर टिकी हैं. मंगलवार को जारी कार्यालय ज्ञापन में मुख्य सचिव प्रबोध सक्सेना ने स्पष्ट किया कि राज्य में नई पेंशन योजना में शामिल कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाएगा.

पुरानी पेंशन की नियम व शर्तें और एसओपी (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर) अलग से जारी की जाएंगी। छत्तीसगढ़ की तर्ज पर हिमाचल में भी पुरानी पेंशन देने का फार्मूला चल रहा है। छत्तीसगढ़ में कर्मचारी केंद्र सरकार से पैसा वापस मिलने के बाद पिछली राशि खुद जमा कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- BJP ने 2024 तक बढ़ाया जगत प्रकाश नड्डा का कार्यकाल‚ शाह ने की घोषणा

वहां कर्मचारियों को ओपीएस में आने या एनपीएस में बने रहने का विकल्प दिया जाता है। ऐसा ही फैसला हिमाचल में भी हो सकता है। हिमाचल में वृद्धा पेंशन देने के लिए इस साल करीब 800 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। आने वाले समय में इसका बजट और बढ़ेगा।

नई पेंशन योजना के तहत आने वाले करीब 2,000 कर्मचारी इस साल सेवानिवृत्त होने वाले हैं। उधर, मुख्य सचिव मंगलवार को दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। उनका 20 जनवरी को शिमला लौटने का कार्यक्रम है। ऐसे में ओपीएस की अधिसूचना का इंतजार अगले सप्ताह तक बढ़ गया है। मंगलवार को भी दिन भर राज्य सचिवालय में वित्त विभाग के अधिकारी पुरानी पेंशन की गणना करने में लगे रहे.

आँखों देखी