Connect with us

Hi, what are you looking for?

राजस्थान

राजस्थान में REET परीक्षा के दौरान अभ्यर्थियों के साथ अमानवीय व्यवाहर‚ कैंची से काटे गए छात्राओं के कपड़े

हैरानी की बात तो यह है कि परीक्षा में नकल रोकने के लिए पूरे जिले में इंटरनेट भी बंद कर दिया गया। । परीक्षा को लेकर संभागीय आयुक्त ने इंटरनेट बंद करने के आदेश भी दिए सीकर जनपद में 232 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा का आयोजन किया गया‚ जिसमें सभी केंद्रों पर CCTV माध्यम से कड़ी नजर

खबर शेयर करें
छात्रा के सूट की बाजू काटती महिला काँस्टेबल

Rajasthan REET 2021News: राजस्थान में अध्यापक पात्रता परीक्षा [REET] के दौरान जमकर हिटलर शाही कानून देखने को मिला। परीक्षा केंद्रों पर छात्राओं के साथ खुलकर बदतमीजी की गई। नकल रोकने के नाम पर परीक्षा केन्द्रों पर तैनात अध्यापकों और पुलिस कर्मियों ने छात्राओं के फुल बाजू के सूट भी कैंची से काट डाले। इसको लेकर कई जगह बवाल हुआ।

इंटरनेट भी बंद

हैरानी की बात तो यह है कि परीक्षा में नकल रोकने के लिए पूरे जिले में इंटरनेट भी बंद कर दिया गया। । परीक्षा को लेकर संभागीय आयुक्त ने इंटरनेट बंद करने के आदेश भी दिए सीकर जनपद में 232 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा का आयोजन किया गया‚ जिसमें सभी केंद्रों पर CCTV माध्यम से कड़ी नजर रखी गई। अधिकारी भी परीक्षा केंद्रों पर दिन भर भाग-दौड़ करते रहे। ऐसा लग रहा था कि मानो अध्यापक पात्रता परीक्षा नहीं कुछ आतंकी शहर में घुस आए हैं।

कैची से छात्रा के गले में पड़ा नेकलेस काटने का प्रसास करती महिला कर्मचारी

सभी परीक्षा केंद्रों पर कड़ी पुलिस फोर्स तैनात किया गया। हैरानी की बात यह है कि परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थियों के प्रवेश के दौरान बेहद सुरक्षा व्यवस्था की गई। इसके लिए कर्मचारियों और पुलिसकर्मियों खुलकर अमानवीय व्यवाहर किया। चेकिंग के दौरान महिला अभ्यर्थियों के फुल बाजू के सूट और कुर्तो को कैंची से काट दिया गया। यहां तक कि नाक- कान के गहने भी उतरवा लिए गए। लड़कियों की चोटियों की रिबन तक को खुलवा लिया गया।

पौद्धार स्कूल के परीक्षा केंद्र पर महिला अभ्यर्थियों के कपड़ों की बाजू काटने पर उसके परिजन पुलिस से भिड़ गए। वहीं एक जगह चप्पल उतारने पर भी अभ्यर्थी पुलिस से उलझ बैठे। पुलिस ने कई जगह लोगों पर लाठी चला कर उन्हें खदेड़ने का प्रयास किया।

मामूली देरी से आने वालों को नही दिया प्रवेश

इसके अलावा मामूली देर से आने वाले अभ्यर्थियों के साथ भी परीक्षा केंद्र पर तैनात कर्मचारियों ने बेहद ही है अमानवीय व्यवहार किया। सीकर शहर के एक परीक्षा केंद्र पर 9:45 मिनट पर एग्जाम देने पहुंची छात्राओं को परीक्षा केंद्र पर प्रवेश नहीं दिया गया। कई छात्राएं गेट पर रोती बिलखती रही बावजूद इसके सेंटर पर तैनात कर्मचारियों का दिल नहीं पसीजा। जबकि पेपर 10:00 बजे से शुरू होना था।

सोशल मीडिया पर आलोचना कार्रवाई की मांग

मामला सामने आने के बाद लोगों ने कड़ा ऐतराज जताया है। कुछ यूजर्स का कहना है कि नकल रोकना सही है‚ इसके लिए और भी तरीके हैं। लेकिन परीक्षा देने आने वाली महिला अभ्यर्थियों के साथ परीक्षा केन्द्रों पर बेहद ही अमानवीय व्यवाहर किया गया है‚ जिसे सही नही ठहराया जा सकता है। संबंधित कर्मचारियों और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें

Civil Services Main 2020 Result: UPSC के मेन एग्जाम का परिणाम जारी, चेक करें डिटेल्स

UP: हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों के प्रिंसिपल को टैबलेट देगी योगी सरकार

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: