Connect with us

Hi, what are you looking for?

शिक्षा/रोजगार

शादी करना चाहते थे परिजन‚ तो घर से भाग गई युवती‚ अब बनेगी दिल्ली पुलिस में सिपाही

हरदा. मेहनत के मामले में लड़कियां लड़कों से हमेशा बेहतर रहती हैं जो कुछ भी कर सकती है। यह बात एक बार फिर साबित हो गई। जिसके चलते दुनिया भर की लड़कियों को प्रेरणा देने के मामले में एक और नाम जुड़ गया है। यह नाम है हरदा की रहने वाली दीपिका सिंह का है जिसके हौसले की कहानी सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

दरअसल 1 वर्ष पहले हरदा की रहने वाली दीपिका अचानक गुम हो गई थी। काफी तलाश करने के बाद भी जब वो नही मिली तो घरवालों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। लेकिन जब दीपिका सिंह लौटी तो वह एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर चुकी थी। सिविल लाइन थाना क्षेत्र की रहने वाली दीपिका का कहना है कि वो पढ़ाई के लिए घर छोड़कर दिल्ली चली गई थी। क्योकि परिजन उसकी शादी करना चाहते थे। लेकिन पढ़ने की ख्वाहिश को लेकर दीपिका ने अपना घर छोड़ दिया था। उसने दिल्ली जाकर अपनी पढ़ाई पूरी की और दिल्ली पुलिस का एग्जाम भी अब क्लियर कर लिया है।

कोचिंग से गायब हुई थी दीपिका

बात 17 फरवरी 2020 की है। घर से कोचिंग जाने की बात कहकर दीपिका निकली थी लेकिन वापस नहीं लौटी। परिजनों ने पुलिस में गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने मामला दर्ज कर दीपिका की खोजबीन शुरू की तो दीपिका की स्कूटी हरदा रेलवे स्टेशन पर लावारिस अवस्था में खड़ी हुई मिली। पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर पता किया तो दीपिका की आखिरी लोकेशन मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल स्टेशन पर पाई गई। मार्च में लॉकडाउन लगने के बाद दीपिका की खोजबीन भी धीमी पड़ गई।

ये भी पढ़ें- महंगाई का एक ओर झटका: आज फिर बढे घरेलू गैस सिलेंडर के दाम, 794 रुपये हुआ प्रति सिलेंडर

20 फरवरी 2021 को परिजनों ने दीपिका के दिल्ली में होने की सूचना पुलिस को दी तो पुलिस दिल्ली पहुंची और दीपिका को वहां से लेकर हरदा आ गई। दीपिका ने बताया कि दिल्ली में वह अपनी धर्म भाई सुनील राजोरिया के घर पर रह रही थी। सुनील से उसकी पहचान साल 2018 में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए हुई थी। दीपिका ने दिल्ली में एसएससी की तैयारी के साथ ही पुलिस की परीक्षा भी क्लियर की।

दीपिका ने बताया कि उसके पिता की मौत हो चुकी है। दो बहनों और मां के साथ वह हरदा में रहकर ही पढ़ाई कर रही थी लेकिन एक दिन उसे पता चला कि घरवाले उसकी शादी करना चाह रहे हैं। दीपिका ने अपनी मां से पढ़ाई पूरी करने की बात कही लेकिन मां ने मना कर दिया। तब उसने आगे की पढ़ाई के लिए अपना घर छोड़ दिया।

पढाई के लिए बेंच दिए सोने के टॉप्स

वह पहले मुंबई गई थी। यहां उसका मोबाइल चोरी हो गया। इसके बाद वह दिल्ली वापस आ गई। सुनील से मिलने के बाद में किराए का घर लेकर रहने लगी। पढ़ाई के लिए जब पैसे खत्म हो गए तो उसने अपने सोने के टॉप्स बेचकर आगे की पढ़ाई पूरी की। दीपिका ने बताया कि उसके जाने के बाद परिजनों को कई प्रकार की बातें सुननी पड़ी। इसलिए उसने घर आने का फैसला किया। हालांकि उसने परिजनों से वचन लिया कि वह उसकी पढ़ाई नहीं रोकेंगे।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement