सनसनीखेज: गाजियाबाद में पत्नी के प्रेमी की फरसा से अलग की गर्दन, फिर 20 टुकड़े करके झाड़ियों में फेंका

संवाददाता: कपिल कुमार

शव के टुकड़ों को तलाशती पुलिस फोटो सौजन्य सोशल मीडिया

उत्तर प्रदेश: गाजियाबाद जिले में एक रिक्शा चालक ने अपनी पत्नी के प्रेमी की फरसे से गला काटकर हत्या कर दी। फिर शव के 20 टुकड़े करके बोरियों में भरकर नहर किनारे झाड़ियों में फेंक दिए। आरोपी रिक्शा चालक हत्या से लेकर शव ठिकाने लगाने तक की साजिश पहले ही तैयार कर चुका था। उसे अपने द्वारा किए गए इस कृत्य का कोई पछतावा नहीं है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर सनसनीखेज खुलासा किया है।

जानकारी के अनुसार, गाजियाबाद जिले के  खोड़ा कालोनी में मूलरूप से संभाल निवासी रिक्शा चालक मीलाल (34) पत्नी पूनम और बच्चो के साथ काफी समय से खोड़ा के आदर्श नगर सोम बाजार में अमन बेंक्वेट हॉल वाली गली में किराये पर रहता है। मिलाल के साथ ही राजस्थान के कोटपुतली निवासी अक्षय (24)भी रिक्शा चलाता था। उसका मीलाल के घर आना जाना था। इसी दौरान उसकी नजदीकी मीलाल की पत्नी पूनम से बढ़ गई। जिसका पता मीलाल को चला तो उसने अक्षय को ठिकाने लगाने की योजना बनाई।

कुछ समय पहले मीलाल की बेटी घर में ही झुलस गई। जिसका दिल्ली के गुरु तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल में उपचार चल रहा है। पूनम को रोज बच्ची के पास जाना पड़ता था जबकि वह खुद रिक्शा चलाने निकल जाता था। पूनम को चिंता हो रही थी कि घर में दो बेटियों और बेटे के पास कोई नहीं रहता है। मीलाल का कहना है कि उसकी चिंता को देख उसने साजिश रच ली। पत्नी से कहा कि वह कुछ दिनों के लिए राजस्थान से अक्षय को बुला ले। पत्नी उसकी बातों में आ गई और फोन करके अक्षय को बुला लिया। वह 19 जनवरी की सुबह पहुंच गया था।

मीलाल ने पुलिस को बताया कि उसने पूरी प्लानिंग करके फरसा पहले ही घर में लाकर रख लिया था। उसने पूनम को बेटी के पास अस्पताल भेज दिया। घर पर उसकी दो बेटियां और पत्नी का प्रेमी अक्षय रह गए। वह रिक्शा चलाकर लौटा तो अक्षय घर पर ही मिला। रात में अक्षय बच्चों के कमरे में ही सो गया। रात 11 बजे बेटियों और अक्षय को गहरी नींद आ गई तो वह फरसा लेकर पहुंचा और पूरी ताकत के साथ अक्षय की गर्दन पर वार किया। एक ही वार में अक्षय की गर्दन कटकर अलग हो गई।

 
मिलाल ने इसके बाद अक्षय के शव के हाथ, पैर, गर्दन अलग-अलग कर धड़ के भी कई टुकड़े किए। उसने बताया कि उसने फरसे से 20 से ज्यादा प्रहार किए। उसने पुलिस से कहा कि उसे ठीक से याद भी नहीं कि कितने टुकड़े किए लेकिन बोरी में भरते हुए उसे लगा कि कम से कम 20 टुकड़े तो होंगे ही। इन टुकड़ों को तीन बोरियों में भर रिक्शा से ले जाकर घर से एक किलोमीटर दूर नहर किनारे झाड़ियों में फेंक आया। सोए हुए बच्चों को इसका पता नहीं चला। सुबह उठने पर उसने बच्चों से कह दिया कि अंकल रात में ही घर वापस चले गए, उन्हें जरूरी काम पड़ गया था।

शनिवार शाम को शव मिलने पर पुलिस ने शक के आधार पर मीलाल से पूछताछ की तो जुर्म कुबूल करते हुए उसने बताया कि उसने ही पूनम से कहकर अक्षय को बुलवाया था और घर में सोने के लिए कहा था। सोते हुए ही उसकी जान ली। हत्या से लेकर शव ठिकाने लगाने तक की साजिश पहले ही तैयार कर चुका था। उसे इसका पछतावा नहीं है। पुलिस ने मीलाल को गिरफ्तार कर लिया है।