मेरठ: किठौर में क्राइम ब्रांच अधिकारी बनकर सर्राफ को लूटने वाले बदमाशो की पुलिस से मुठभेड़, एक को लगी गोली

मनोज कुमार

मुठभेड़ में घायल बदमाश के साथ पुलिस टीम

उत्तर प्रदेश: मेरठ जिले के किठौर थाना क्षेत्र में दिल्ली क्राइम ब्रांच के अधिकारी बन कर सर्राफ से लूट करने वाले एक बदमाश को पुलिस ने मुठभेड़ के बाद दबोच लिया जबकि उसके 2 साथी फरार हो गए। पुलिस ने बदमाश के पास से लूटे हुए आभूषण, एक तमंचा और कारतूस बरामद किए हैं। साथ ही घटना में प्रयुक्त एक कार भी बरामद की है। पुलिस की गोली लगने से घायल बदमाश को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया है।

आपको बता दें बीते कि शनिवार सुबह 10:30 बजे मोदीनगर निवासी सर्राफ सुधीर वर्मा (मूल निवासी बहरोड़ा किठौर)  बहरोड़ जा रहे थे। जैसे ही उनकी कार गढ़ मेरठ रोड से बहरोडा नाली पर पहुंची तो एक अर्टिगा कार सवार दो बदमाशों ने खुद को दिल्ली क्राइम ब्रांच का अफसर बताते हुए सर्राफ से सोना और चांदी के आभूषण, नकदी व मोबाइल लूटकर फरार हो गए। तभी से पुलिस बदमाशो की तलाश में लगी हुई थी।

किठौर थाना प्रभारी अरविंद मोहन शर्मा ने बताया कि मंगलवार रात लगभग 10:30 बजे पुलिस को सूचना मिली की सर्राफ सुधीर वर्मा के साथ लूट करने वाले बदमाश बहरोड़ा से कहीं जाने की फिराक में है। जानकारी पर सीओ रुपाली राय और किठौर इंस्पेक्टर ने पुलिस फोर्स के साथ बदमाशों की धरपकड़ के लिए घेराबंदी कर दी। पुलिस को आता देख बदमाशों ने उनके ऊपर फायरिंग कर दी। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश पैर में गोली लगने से घायल हो गया। जबकि उसके 2 साथी अंधेरे का लाभ उठाकर फरार हो गए।

पूछताछ में घायल बदमाश जुल्फेकार निवासी मोहम्मदपुर थाना बनिया ढेर, जिला संभल और फरार साथियों के नाम मांगेराम निवासी बरोड़ा तथा पवन निवासी हरियाणा बताया। पुलिस ने घायल बदमाश को इलाज हेतु जिला अस्पताल भिजवाया है।

किठौर थाना प्रभारी ने बताया कि बहरोड़ा निवासी मांगेराम एक मामले में तिहाड़ जेल में था। वहां उसकी पेशेवर अपराधी पवन और जुल्फेकार से दोस्ती हो गई थी। जेल से आने के बाद फोन के जरिए तीनों संपर्क में रहते थे। कुछ दिन पूर्व मांगे ने पवन और जुल्फेकार को सर्राफ सुधीर के बारे में बताया। इसके बाद तीन ने मिलकर सर्राफ को लूटने की प्लानिंग की। पुलिस के अनुसार घटना के दौरान पवन क्राइम ब्रांच का अधिकारी बना उसके हाथ में डायरी थी।