Second hand car: पुरानी कार खरीदते समय ध्यान रखें यह बातें‚ नही तो पड़ सकता है पछताना

22
Od car

How to check second hand car condition- कार खरीदने का सपना तो हर किसी का होता है, लेकिन आर्थिक समस्या होने के कारण ज्यादतार लोग अपना यह सपना पूरा नही कर पाते हैं। ऐसे में सेकंड हैंड कार (second hand car) खरीदना एक अच्छा विकल्प माना जाता है। लेकिन पुरानी कार खरीदते समय अगर जरा सी भी लापरवाही हो जाए तो आपको भारी नुकसान भी उठाना पड़ सकता है।  अगर आप पहली बार सेकंड हैंड कार खरीद रहे हैं तो कुछ बाते आपको जरूर जान लेना चाहिए।  आज हम आपको यहीं बाते बताएंगे कि सेकंड हैंड कार खरीदते समय आपको क्या- क्या सावधानी बरतनी चाहिए।

सेकंड हैंड कार खरीदते से पहले सबसे जरूरी बात यह है कि आपको गाड़ी के सभी डॉक्यूमेंट को अच्छी तरह चैक कर लेने चाहिए। डॉक्यूमेंट्स में गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टीफिकेट देखना बहुत जरूरी होता है। इसके अलावा गाड़ी का इंश्योरेंस और पॉल्यूशन भी अच्छी तरीके से चेक कर लेना चाहिए. गाड़ी विक्रेता से आरसी की ऑरिजीनल कॉपी जरूर लेनी चाहिए. इसके अलावा गाड़ी के ओरिजिनल बिल की कॉपी भी देखनी चाहिए। गाड़ी के डॉक्यूमेंट्स में इंजन नंबर, चेसिस नंबर और डिलीवरी की तारीख दर्ज होती है। डॉक्यूमेंट्स के अनुसार ही गाड़ी का चेसिस नंबर और इंजन नंबर दर्ज होना चाहिए।

यह भी पढ़ें- AUTO EXPO 2023: भारत की इस कंपनी ने आर्मी जवानो के लिए बनाई खास SUV

इसके बाद गाड़ी को कम से कम 10 किमी तक चलाकर जरूर चैक करना चाहिए, ताकि आपको पता चल जाए गाड़ी के ब्रेक, क्लच, गियर और एक्सीलेटर आदि ठीक से काम कर रहे हैं या नही।  गाड़ी एक्सीडेंटल तो नहीं है यही भी जरूर चैक कर लेना चाहिए। इसके लिए गाड़ी का बोनट और डिग्गी खोलकर ध्यान पूर्वक ध्याना चाहिए। अगर गाड़ी का कहीं एक्सीडेंट हुआ होगा तो उसकी बॉडी में आपको रिपेयरिंग वर्क जरूर नजर आ जाएगा।

गाड़ी के टायर, बैट्री, और सीट आदि को भी ध्यान से देख लेना चाहिए।  गाड़ी का मॉडल क्या है और वह कुल कितने किलोमीटर तक चल चुकी है यह भी देख लेना चाहिए, कुछ गाड़ी विक्रेता मीटर रीडिंग बैक करके आपको बेवकूफ बना सकते हैं। लेकिन गाड़ी की कंडीशन से आप यह पता लगा सकते हैं कि गाड़ी कुल कितने किलोमीटर चली हुई है।

गाड़ी का इंजन चैक करना सबसे मैन बात होती है। लेकिन हर कोई यह पता नही सकता है कि गाड़ी का इंजन ठीक से काम कर रहा है या नही। यहां आपको कुछ ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए।  गाड़ी का इंजन चैक करने लिए आपको सबसे पहले गाड़ी का सर्विस रिकार्ड चैक करना चाहिए। आपको इंजन ऑयल का गेज को निकालकर ऑयल की कंडिशन चैक करनी चाहिए। अगर ऑयल काला या गंदा है तो गाड़ी का सर्विस रिकार्ड ठीक नही है‚ इंजन की आवाज से भी आप गाड़ी का सर्विस रिकार्ड जान सकते हैं। अगर इंजन सामान्य से ज्यादा आवाज कर रहा है तो ऐसी गाड़ी को खरीदने से आपको बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें- मार्केट में एक बार फिर धूम मचाने आ रही है YAMAHA- RX100‚ इन नए फीचर्स के साथ होगी लॉन्च

इसके अलावा गाड़ी का इंजन भी पूरी तरह से साफ होना चाहिए। इंजन के किसी भी पार्टस या पाइप से ऑयल लिकेज नही होना चाहिए। गाड़ी के इंजन को चारों तरफ से चैक करना चाहिए। जैक लगाकर गाड़ी को नीचे से भी देख लेना चाहिए। ध्यान रहे कि इस दौरान गाड़ी का इंजन ऑफ और हैंड ब्रेक लगे होने चाहिए। नीचे से भी इंजन पूरी तरह से साफ होना चाहिए। अगर आपको कहीं से भी ऑयल लीकेज दिखाई देता है तो भी ऐसी गाड़ी को नही खरीदना चाहिए।

गाड़ी स् र्टाट होने पर साइलेंसर से किसी भी रंग का धुंआ नही दिखाई देना चाहिए। इसके अलावा इंजन से भी ऑयल की स्मैल नही आनी चाहिए। अगर इंजन से ऑयल फुंकने की स्मैल आती है‚ और साइलेंसर से निकलने वाला किसी भी रंग का धुंआ आपको दिखाई देता है‚ तो भी गाड़ी का इंजन सही नही है। ऐसी गाड़ी को भी नही लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें- मार्केट में फिर लॉन्च हुआ TOYOTA INNOVA CRYSTA का डीजल वर्जन‚ बुकिंग शुरू

इंजन का बैंक कंप्रेशर भी आपको चैक कर लेना चाहिए‚ इसके लिए स् र्टाट गाड़ी का ऑयल गेज बाहर निकालकर देखना चाहिए। अगर अपको गेज होल से इंजन से निकलता हुआ सफेद धुंआ दिखाई देता है तो भी ऐसी गाड़ी को लेने से परहेज करना चाहिए। इसके अलावा गाड़ी के मीटर में दिखने वाले इंजन के सिग्नल भी चैक कर लेने चहिए। चॉबी ऑन होने पर मीटर में मौजूद सभी सिग्नल दिखाई देने चाहिए और गाड़ी स् र्टाट होने पर यह सिग्नल गायब हो जाने चाहिए। अगर गाड़ी स् र्टाट हाेने पर भी कोई सिग्नल दिखाई देता है तो गाड़ी के इंजन या उसकी वायरिंग में कोई गड़बड़ हो सकती है। ऐसी गाड़ी को भी नही खरीदना चाहिए।

यह भी पढ़ें- जानिए कितना फायदेमंद है हाइब्रिड कार खरीदना‚ क्या कहते हैं एक्सपर्ट

अगर सब कुछ ठीक है और आप गाड़ी खरीदने का मन बना चुके हैं तो लास्ट में आपको यह भी बता दें कि गाड़ी लेते वक्त गाड़ी की दोनो चाबियां और टूल किट भी आपको जरूर लेनी चाहिए। गाड़ी लेने से पहले अगर आप यह सब जानकारी चीजें चैक कर लेंगे तो हम दावे के साथ कह सकते हैं कि आपको कभी भी पछतना नही पड़ेगा।