सावधानǃ एसयूवी के नाम पर नकली गाड़िया बेंच रही ऑटो कंपनियां‚ ऐसे करें पहचान

सांकेतिक चित्र

How to identify suv:  आपको जानकार आश्चर्य होगा कि साल 2022 में यूटिलिटी व्हीकल ( Utility Vehicle) के उत्पादन के आंकड़े आम आदमी के उपयोग के वाहनों के बराबर जा पहुंचे थे। एसयूवी (sports utility vehicles) के नाम पर साड़ियां खूब बिक रही हैं। लेकिन क्या आपने सोचा है कि जब कंपनियां आकार में काफी छोटी गाड़ियों को भी एसयूवी के वर्ग की कहकर बेच रही हैं, सरकार ऐसे वाहनों को किस वर्ग में रख रही है ? और उन पर जीएसटी कैसे लगा रही है।

यह है XUV की पहचान

बीते दिसंबर में जीएसटी काउंसिल ने यह स्पष्ट किया। वर्तमान में 1500 सीसी से ज्यादा की इंजन क्षमता वाले, लंबाई में 4000 मिलीमीटर से ज्यादा और 170 मिलीमीटर से ज्यादा ग्राउंड क्लियरेंस वाले वाहनों पर 28 फीसदी जीएसटी और 22 फीसदी सेस लगता है।

यह भी पढ़ें- AUTO EXPO 2023- महिंद्रा थार को टक्कर देने आ गई MARUTI SUZUKI JIMNY

अगर किसी वाहन में बताए गए इन चार में से एक भी बिंदु अलग होता है, तो उसे एसयूवी नहीं माना जाएगा। कम से कम ऑफिशियल और टैक्सेशन के लिए वह एसयूवी नहीं माना जाएगा। पर अलग-अलग राज्यों में एसयूवी की परिभाषा अलग-अलग हो सकती है। इसी कारण एक अस्पष्टता का माहौल है।

यह भी पढ़ें- AUTO EXPO 2023: BYD ने पेश की अपनी दो नई इलेक्ट्रिक कार देखें डिजाइन और फीचर्स

बताए नियम के अनुसार देखें तो यानी वर्तमान में लोकप्रिय सब- कॉम्पैक्ट एसयूवी जैसे टाटा नेक्सन, मारुति सुजुकी ब्रेजा, हुंडई वेन्यू, किया सोनेट व अन्य इस वर्ग की गाड़ियां सरकारी टैक्स के लिए तकनीकी रूप से एसयूवी वर्ग की नहीं मानी जाएंगी।

आर्टिकल साभार‚ HT मीडिया