Connect with us

बड़ी खबर...

बिजनौर: सुबह खेत पर जा रहे युवक को गुलदार ने बनाया निवाला, इस सप्ताह चार लोगों की जान ले चुका है आदमखोर

Published

on

उत्तर प्रदेश: बिजनौर के नगीना क्षेत्र में गुलदार के हमले में बुधवार सुबह एक 25 वर्षीय युवक की जान चली गई। कल मंगलवार को भी गुलदार ने एक पांच वर्षीय बच्ची को अपना निवाला बना लिया था। बता दें कि गुलदार पिछले एक सप्ताह में चार लोगों को मौत के घाट उतार चुका है। गुलदार के हमलों से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। लगातार हो रहे हमलों में वन विभाग के अधिकारियों ने ग्रामीणों से सतर्कता बरतने तथा समूह में खेतों पर जाने, बच्चो को अकेला न छोड़ने तथा जंगल में खेतों पर काम करने से पूर्व शोर करने व रेडियो या मोबाइल पर तेज आवाज में गाने बजाने का आह्वान किया है।

जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह  ग्राम सैदपुरी महीचंद में युवक खेत पर घूमने के लिए निकला था। इसी दौरान गुलदार ने युवक पर जानलेवा हमला कर उसे अपना निवाला बना लिया। जिसके बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। कल मंगलवार को भी गुलदार ने गांव जाब्तानगर के मौजा मुस्सेपुर की एक पांच वर्षीय बच्ची को निवाला बना लिया था। बताया गया कि गुलदार के आतंक से क्षेत्र के लोगो ने खेतों पर जाना बंद कर दिया है। वन विभाग के अधिकारियों ने ग्रामीणों से सतर्कता बरतने को कहा है।

बच्ची पर हमले के बारे में गांव मुस्सेपुर गांव निवासी टेकचंद सैनी ने बताया कि मौजा मुस्सेपुर में तीन-चार लोगों के मकान हैं। समीप ही खेत भी हैं। मंगलवार रात साढ़े आठ बजे परिजन खाना खाने की तैयारी में लगे थे, तभी अचानक बिजली चली गई। इसी बीच पहले से ही घात लगाए बैठा गुलदार अचानक खेतों से निकलकर एक घर में घुस गया और उसकी पांच वर्षीय पुत्री खुशी को उठा ले गया। शोर मचाने पर ग्रामीण एकत्र होकर लाठी डंडे लेकर बच्ची की तलाश में निकले लगभग आधा घंटे बाद बच्ची का शव निकट ही चेतराम सिंह के गन्ने के खेत में मिला।

आपको बता दें कि एक सप्ताह से एक के बाद एक प्रतिदिन गुलदार के हमले हो रहे है
जिसमे बुधवार 19 अप्रैल को गुलदार ने गांव कासमपुरगढ़ी में खेत की रखवाली करते समय एक वृद्ध (70) को मार डाला था। 23 अप्रैल की रात रेहड़ थाना क्षेत्र में एक बालिका पर हमला कर उसे मार डाला। 25 अप्रैल को गांव मच्छमार में घुसकर सात वर्षीय बालिका पर हमला कर मार डाला।

बड़ी खबर...

हैदराबाद: सड़क हादसे में 33 वर्षीय महिला विधायक की मौत, ड्राइवर गंभीर

Published

on

हैदराबाद: सिकंदराबाद कैंट से बीआरएस की 33 वर्षीय विधायक लस्या नंदिता का संगारेड्डी के अमीनपुर मंडल इलाके में सुल्तानपुर आउटर रिंग रोड (ORR) पर सड़क हादसे में निधन हो गया। विधायक की कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गई। इस सड़क हादसे में विधायक लस्या नंदिता को गंभीर चोटें लगीं और इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इस दुर्घटना में उनका कार ड्राइवर भी गंभीर रूप से घायल है और अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है।

गौरतलब है कि 13 फरवरी को भी नारकेतपल्ली में उनकी कार का उस समय एक्सीडेंट हो गया था जब वह पूर्व मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की सभा में भाग लेने के लिए नलगोंडा जा रही थी। इस दुर्घटना में उनको मामूली चोट आईं थी लेकिन एक होमगार्ड की मौत हो गई थी। विधायक लस्या नंदिता के असामयिक निधन पर बीआरएस प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने शोक व्यक्त करते हुए कहा “एक युवा विधायक के रूप में अपने कामों के लिए पहचानी जाने वाली लस्या नंदिता की सड़क हादसे में मौत से दुखी हूं। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदना उनके परिवार के साथ है”।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री रेवंती रेड्डी ने युवा महिला विधायक की मौत पर दुख जताते हुए सोशल मीडिया पर लिखा, कैंट विधायक लस्या नंदिता की असामयिक मौत से मुझे गहरा सदमा लगा है। पिछले साल इसी महीने में नंदिता के पिता जी. सयन्ना का निधन हो गया था… ये बेहद दुखद है कि उसी महीने में नंदिता की भी अचानक मौत हो गई। मैं उनके परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करते हुए भगवान से उनकी आत्मा को शांति देने की प्रार्थना करता हूं।

Continue Reading

बड़ी खबर...

कर्नाटक मे मंदिरों को भी देना होगा टैक्स, सिद्धारमैया सरकार के फैसले पर भड़की भाजपा, “बताया हिंदू विरोधी”

Published

on

कर्नाटक में सिद्धारमैया सरकार ने सालाना 10 लाख से ऊपर कमाई करने वाले मंदिरों पर टैक्स वसूलने का फैसला लिया है। जिन मंदिरों की इनकम 10 लाख से 1 करोड़ के बीच है उसे पांच प्रतिशत टैक्स देना होगा।
जबकि1 करोड़ रुपये से अधिक कमाई करने वाले मंदिरों से 10 फीसदी टैक्स वसूली करने का फैसला किया है।

दरअसल, कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार द्वारा विधानसभा में पास विधेयक ‘कर्नाटक हिंदू धार्मिक संस्थान और धर्मार्थ बंदोबस्ती विधेयक 2024’ के अनुसार, सरकार 1 करोड़ रुपये से अधिक राजस्व पाने वाले मंदिरों पर 10% कर लगाएगी। वहीं, 10 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये के बीच राजस्व उत्पन्न करने वाले मंदिरों पर 5% कर वसूला जाएगा। विधेयक को लेकर कर्नाटक में राजनीतिक बयानबाजी भी शुरू हो गई है।

कर्नाटक सरकार के इस फैसले पर आपत्ति जताते हुए कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष विजयेंद्र येदियुरप्पा ने सिद्धारमैया सरकार के फैसले के खिलाफ हल्ला बोला है। उन्होंने कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार को एंटी हिंदू करार दिया है। उनका कहना है कि यह सरकार हिंदू विरोधी नीतियां अपनाकर अपना खाली खजाना भरना चाहती है। भाजपा के आरोपों पर कांग्रेस सरकार के मंत्री रामालिंगा रेड्डी ने कहा कि भाजपा धर्म को लेकर राजनीति कर रही है बल्कि कांग्रेस हिंदू धर्म की सबसे बड़ी हितकारी है।

इस पर भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या ने आरोप लगाया था कि कर्नाटक सरकार हिंदू समुदाय का इस्तेमाल अन्य धर्मों को आर्थिक रूप से समृद्ध करने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार को हिंदू मंदिरों से करीब 445 करोड़ रुपये का राजस्व मिला। जिसमे से सरकार ने वक्फ बोर्ड को 100 करोड़ रुपये और ईसाई समुदाय को 200 करोड़ रुपये और हिंदू मंदिरों के लिए महज 100 करोड़ रुपये ही आवंटित किये हैं। 

Continue Reading

बड़ी खबर...

हाय री सियासत: आंध्र प्रदेश में वोटरों को लुभाने के लिए कंडोम बांट रही पार्टियां, प्रदेश में सियासी उबाल

Published

on

दरअसल यह खबर पढ़कर आप गहराई से सोचें कि भारतीय राजनीति का स्तर कितना गिर गया है। राजनेता अपने सियासी फायदे के लिए कितना गिरेंगे, यह सोचने वाली बात है।

पार्टी न नाम और चुनाव चिन्ह सहित कंडोम के पैकेट

आंध्र प्रदेश: भारत में सियासी दल चुनाव जीतने के लिए किस हद से गुजर सकते हैं यह किसी से छुपा नहीं है। चंडीगढ़ मेयर चुनाव का ताजा उदाहरण सभी को मालूम है। दरअसल, भारत में वोटरों को लुभाने के लिए चुनाव के पहले शराब, पैसे, और साड़ियां आदि बांटना तो आम है। लेकिन आंध्र प्रदेश में सियासी दलों ने वोटरों को लुभाने के लिए घर-घर कंडोम के पैकेट बांटने शुरू कर दिए हैं। इसके लिए बकायदा कंडोम के पैकेट के ऊपर पार्टी का चुनाव चिन्ह और नाम भी छापा गया है। जिससे आंध्र प्रदेश की राजनीति में भूचाल मचा हुआ है।

आपको बता दें कि आंध्र प्रदेश में सत्तारूढ़   वाईएसआर कांग्रेस पार्टी एवं उसके प्रमुख विपक्षी दल तेलुगु देशम पार्टी द्वारा पब्लिक में अपने चुनाव चिन्ह वाले कंडोम के पैकेट बांटे जा रहे हैं। पार्टी के चुनाव चिन्ह वाले पैकेट बांटने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में सत्ता पर काबिज YSR कांग्रेस और मुख्य विपक्षी पार्टी TDP दोनों के चुनाव चिन्ह वाले कंडोम के पैकेट बांटते हुए दिखाया जा रहा है। कार्यकर्ता ये पैकेट मतदाताओं को घर-घर जाकर दिए जा रहे हैं।

जगनमोहन रेड्डी की पार्टी वाईएसआरसीपी ने एक्स पर की गई पोस्ट में टीडीपी को आड़े हाथों लेते हुए पूछा है कि पार्टी आखिर कितना नीचे तक गिरेगी? उन्होंने  पूछा कि क्या कंडोम बांटने के बाद यह काम बंद हो जाएगा अथवा पार्टी जनता के बीच वियाग्रा भी बंटनी शुरू करेगी। कमाल की बात यह है कि दोनों पार्टियों ने कंडोम बांटने के लिए एक-दूसरे की आलोचना की है।

Continue Reading
Advertisement

Trending

Copyright © 2017 Zox News Theme. Theme by MVP Themes, powered by WordPress.