शौर्य का फाइल फोटो

बागपत: 15 दिसंबर की शाम लापता हुए सात साल के बच्चे शौर्य की हत्या कर दी गई है. उसका का शव घर से डेढ़ किमी दूर खेत में गड्ढे से शव पुलिस ने बरामद किया है। घटना के बाद परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

आपको बता दें कि खेकड़ा कोतवाली क्षेत्र के फखरपुर गांव निवासी शौर्य 15 दिसंबर की शाम घर से ट्यूशन पढ़ने गया था। वापस घर न पहुंचने पर परिजनों ने अज्ञात लोगों के खिलाफ खेकड़ा कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस लगातार शौर्य की तलाश कर रही थी। शौर्य गांव में ही कक्षा एक में पढ़ता था।

पुलिस को गली में जाते शौर्य की सीसीटीवी फुटेज भी मिल गई थी। सीसीटीवी फुटेज में पुलिस ने आरोपियों को बाइक पर बैठाकर बच्चे को ले जाते हुए देखा था।

चाचा और चचेरे भाई ने दिया घटना को अंजाम

पुलिस ने इस मामले का सनसनीखेज खुलासा करते हुए शौर्य के सगे चाचा और उसके चचेरे भाई को गिरफ्तार कर लिया है। रिश्तो को तार-तार करते हुए इन दोनों ने 7 साल के मासूम शौर्य की हत्या कर दी थी। पुलिस ने बताया कि रंगदारी मांगने के लिए शौर्य का अपहरण किया गया था।

लेकिन पुलिस के डर के चलते इन लोगों ने बच्चे की गला दबाकर हत्या कर दी और शव को घर से करीब डेढ किलोमीटर दूर गड्ढे में दबा दिया।
चाचा की निशानदेही पर पुलिस ने शव को बरामद कर लिया है बागपत एसपी नीरज कुमार ने घटना का खुलासा करते हुए यह जानकारी दी है। वहीं दोनों आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। घटना के बाद पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई है।

आँखों देखी