Connect with us

Hi, what are you looking for?

Accident/ हादसा

किशन गंज में गैस सिलेंडर फटने से एक ही परिवार के 4 बच्चों सहित 5 की जिंदा जलने की मौत

बिहार: किशनगंज में सोमवार की सुबह किशनगंज के मोहिउद्दीनपुर सलाम कॉलोनी के एक घर पर गैस सिलेंडर फटने से चार बच्चों समेत पांच की मौत हो गई। मृतकों में पिता और उनके चार बच्चे शामिल हैं। जबकि युवक की पत्नी बुरी तरह झुलस गई है।  घटना के बाद मौके पर पहुंची टाउन पुलिस और फायर ब्रिगेड ने किसी तरह आग पर काबू पाकर आग को फैलने से रोका।

मृतकों में चार बच्चे शामिल

इस घटना में नूर आलम और उसकी बेटी 10 वर्षीय तोहफा प्रवीण, आठ वर्षीय शबनम प्रवीण, छह वर्षीय बेटा रहमत रजा और तीन वर्षीय बेटा मो. शाहिद की मौत हो गई। पुलिस ने पांचों के शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। जहां पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिये गए । इस घटना में मृतक नूर आलम की पत्नी सहजादी बानो गंभीर रूप से घायल है। उसका इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। सिलेंडर ब्लास्ट के बाद आग चारों तरफ बुरी तरह फैल गई। जोरदार धमाके से हर कोई हैरान रह गया। एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत से सभी हिल गए। हर कोई सकते में आ गया है। घटना के बाद बड़ी संख्या में लोग वहां जमा हो गए।

सिलेंडर ने चूल्हे की सुलगती लकड़ी से आग पकड़ ली

रविवार की रात शहजादी बानो ने लकड़ी के चूल्हे पर खाना बनाया। खाना खाकर सभी लोग सो गए। इसके बाद सोमवार सुबह करीब चार बजे सिलेंडर फटा। घायल शहजादी बानो ने कहा कि चूल्हे की आग पूरी तरह से बुझी नहीं थी। जिसके कारण धीरे-धीरे घर में चूल्हे के साथ आग लग गई।  सिलेंडर को स्टोव के बगल में रखा गया था।  फूस के घर में आग पकड़ने के साथ ही इसने सिलेंडर में भी आग पकड़ ली। जैसे ही सिलेंडर में विस्फोट हुआ उसने खुद को आग से घिरा हुआ देखा। वह छोटे बेटे को लेकर भागने लगी। लेकिन तीन साल का बेटा वापस घर चला गया। धधकती आग ने उसे झुलस दिया। वह किसी तरह बचने में सफल रही। पति और बच्चों को बाहर निकलने का मौका नहीं मिला।

नूर आलम पेशे से इलेक्ट्रीशियन था

मोहिददीनपुर निवासी नूर आलम पेशे से इलेक्ट्रिशियन थे। भाई दिलावर ने बताया कि उसने तीन शादी की थी। शहजादी बानो दूसरी पत्नी है। तीनों पत्नियां अलग-अलग रहती हैं। वह रविवार शाम को दूसरी पत्नी के घर आया था। पत्नी और बच्चों के साथ खाना खाने के बाद सो गए। सुबह जब सिलेंडर फटने की आवाज आई तो आसपास के लोग जमा हो गए। आग की लपटें देखकर लोगों ने तुरंत पुलिस और दमकल विभाग को सूचना दी। तुरंत फायर बिग्रेड ने किसी तरह आग पर काबू पाया।  लेकिन तब तक, नूर आलम पूरी तरह से झुलसकर बच्चों के साथ मर चुका था।  गंभीर रूप से झुलसी मृतक की पत्नी शहजादी बानो को सदर अस्पताल के बर्न वार्ड में भर्ती कराया गया। इस घटना से पूरे गाँव में मातम फैला हुआ है।

खबर शेयर करें
Click to comment

Leave a Reply

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Copyright ©2020- Aankhon Dekhi News Digital media Limited. ताजा खबरों के लिए लोगो पर क्लिक करके पेज काे रिफ्रेश करें और सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: